आवेदन पत्र और प्रारूप – Aavedan Patra in Hindi

Aavedan Patra : दोस्तों आज हमने आवेदन पत्र कैसे लिखते हैं यह बताया है जैसा कि आवेदन पत्र नाम से ही पता लगता है कि किसी व्यक्ति विशेष जैसे अधिकारी, नेता, शिक्षक से किसी कार्य के लिए किया गया आग्रह आवेदन पत्र कहलाता है।

आवेदन पत्र लिखते समय हमें कई प्रकार की बातों  को ध्यान में रखना आवश्यक होता है क्योंकि आवेदन हम अपने से बड़े किसी अधिकारी या व्यक्ति विशेष को करते है।

जो कि एक उच्च पद पर विराजमान है इसलिए आवेदन पत्र में लिखा गया हर एक शब्द महत्वपूर्ण होता है।

आवेदन पत्र का प्रारूप

Best Aavedan Patra in Hindi


आवेदन पत्र की महत्वपूर्ण बातें –

(1) आवेदन पत्र आग्रह करने के लिए होता है यह किसी भी व्यक्ति विशेष या अधिकारी से किसी भी कार्य को पूर्ण करने के लिए आवेदन जो आवेदन करते हैं उसी को आवेदन पत्र कहते है।

(2) आवेदन पत्र सरल और कम शब्दों में लिखा जाता है।

(3) आवेदन पत्र में  विषय लिखना अति आवश्यक होता है इससे पढ़ने वाले को पहले ही पता होता है कि यह  आवेदन किस विषय से संबंधित है।

(4) आवेदन पत्र के अंतर्गत आप किसी भी प्रकार का आवेदन कर सकते हैं जैसे अवकाश के लिए आवेदन, छात्रवृत्ति हेतु आवेदन, नौकरी के लिए आवेदन, शिकायती पत्र,  जरूरी सहायता हेतु आवेदन पत्र इत्यादि के लिए आवेदन कर सकते है।

(5) आवेदन पत्र की भाषा औपचारिक होती है,  इसमें केवल आप अपने कार्य से संबंधित बातें ही लिख सकते है।

आवेदन पत्र कैसे लिखे


पहला भाग –  आवेदन पत्र का पहला भाग सबसे ऊपर बाएं तरफ लिखा जाता है जिसमें संबंधित अधिकारी को संबोधन और अभिवादन किया जाता है साथ ही उनके कार्यालय का नाम भी लिखा जाता है।

दूसरा भाग –  आवेदन पत्र का दूसरा भाग बहुत महत्वपूर्ण होता है इसमें जिस भी कार्य के लिए आप आवेदन करना चाहते हैं वह बात स्पष्ट और कम शब्दों में लिखी जाती है।

तीसरा भाग –  यह आवेदन पत्र के सबसे नीचे दाएं तरफ लिखा जाता है जिसमें आपका नाम,  हस्ताक्षर, पता इत्यादि होता है।

आवेदन पत्र के अभिवादन और समापन के प्रकार –

अभिवादन –  महोदय /महोदया, श्रीमान /श्रीमती

समापन – धन्यवाद, सधन्यवाद

Aavedan Patra के प्रमुख प्रकार –

आवेदन पत्र कई प्रकार के हो सकते हैं लेकिन हमने मूलत: है इन को तीन भागों में बांटा है जिससे आसानी से समझा जा सके कि आवेदन पत्र क्या होता है और किस प्रकार से इसका उपयोग किया जाता है।

विद्यार्थियों के आवेदन-पत्र

  • महाविद्यालय के कुलपति, ट्रस्टी, कक्षा अध्यापक, परीक्षा नियंत्रक को।
  • विद्यालय में प्राचार्य को लिखा गया पत्र।
  • शिक्षा मंत्री, मुख्यमंत्री, विधायक इत्यादि को छात्रों द्वारा सामान्यतः आवेदन-पत्र लिखा जाता है।

विद्यार्थियों द्वारा लिखे गए आवेदन पत्र के प्रमुख विषय –

  • टी. सी. प्राप्त करने हेतु।
  • अवकाश हेतु
  • विद्यालय में आवश्यक वस्तु की पूर्ति के लिए जैसे जल आपूर्ति, विद्युत  और अन्य स्टेशनरी हेतु।
  • फीस माफी हेतु
  • विशेष कक्षा लगाने हेतु।
  • सेक्शन बदलने हेतु।
  • विषय परिवर्तन हेतु।
  • बुक बैंक से पुस्तक प्राप्त करने हेतु।
  • प्रतियोगिता में भाग लेने हेतु।
  • परीक्षा में बैठने की अनुमति हेतु।
  • प्रवेश पत्र खो जाने की स्थिति में नए प्रवेश पत्र हेतु।
  • समय सारणी में परिवर्तन हेतु।
  • शिक्षक के अभद्र व्यवहार की शिकायत हेतु।
  • मार्कशीट की डुप्लीकेट कॉपी हेतु।
  • परीक्षा में बैठने की अनुमति हेतु।
  • अंक तालिका की पुन: गणना हेतु।
  • परीक्षा के आयोजन हेतु।
  • विद्यालय में किसी कार्यक्रम के आयोजन हेतु।

कर्मचारियों के आवेदन पत्र

यह आवेदन पत्र सरकारी विभाग, कंपनी इत्यादि में काम करने वाले कर्मचारियों द्वारा अपने से बड़े अधिकारी को लिखा जाता है।

यह आवेदन पत्र कर्मचारी अपनी मूल आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए लिखता है इसके विषय भिन्न भिन्न प्रकार के होते है जिनमें से हमने उदाहरण के तौर पर कुछ प्रमुख विषय नीचे लिखे है –

जनसाधारण के आवेदन पत्र

जनसाधारण की आवेदन पत्र सरकारी अधिकारियों, कर्मचारियों, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, मंत्रियों, विधायकों, पार्षदों इत्यादि को लिखे जाते है यह किसी व्यक्तिगत और सामाजिक परेशानी की शिकायत हेतु लिखे जाते है।

जनसाधारण द्वारा लिखे जाने वाले पत्र के महत्वपूर्ण विषय निम्नलिखित है –

  • बिजली का मीटर बदलवाने हेतु
  • बिजली बिल की त्रुटि दूर करने हेतु।
  • पानी की समस्या हेतु।
  • विशेष आयोजन हेतु।
  • डाक समस्या के निवारण हेतु।
  • सड़क निर्माण हेतु।
  • विशेष मांग सरकारी स्कूल, सरकारी कॉलेज, सरकारी अस्पताल इत्यादि हेतु।
  • सड़क और गलियों की सफाई हेतु।
  • चोरी की बढ़ती हुई घटनाओं की शिकायत हेतु।
  • अधिकारी और कर्मचारी की शिकायत हेतु।
  • बस सुविधा हेतु।
  • एफ आई आर के लिए एप्लीकेशन
  • असामाजिक तत्वों की शिकायत हेतु।
  • रैली के आयोजन हेतु।
  • पारिवारिक सुरक्षा हेतु।
  • आर्थिक सहायता हेतु।
  • बैंक में नाम, मोबाइल, नंबर, पता इत्यादि बदलने हेतु
  • सरकारी सुविधाओं का लाभ प्राप्त करने हेतु।

 विद्यार्थी के लिए आवेदन पत्र का प्रारूप


सेवा में ,
श्रीमान प्राचार्य महोदय
क ख ग़ विद्यालय (विद्यालय का नाम)
जयपुर, राजस्थान (विद्यालय का पता)

विषय : दो दिन के अवकाश हेतु ।

महोदय,

सविनय नम्र निवेदन है कि मैं आपके विद्यालय का कक्षा……………..का छात्र/छात्रा हूं। मैं कल शाम से बीमार (जो भी बीमारी हो उसका नाम विवरण लिखें)…………………………………………….हूं।
मुझे चिकित्सक ने दो दिन के लिए आराम करने की सलाह दी है. इसलिए मैं विद्यालय में दिनांक 02/10/20__ से 04/10/20__ तक उपस्थित नहीं हो पाऊंगा /पाऊंगी

अतः प्रार्थना है कि मुझे दो दिन के लिए अवकाश देने की कृपा करें इसके लिए मैं आपका सदा आभारी रहूंगा/रहूंगी

सधन्यवाद

दिनांक : 08/02/20…

आपका आज्ञाकारी शिष्य/शिष्या
छात्र/छात्रा का नाम
कक्षा………………….
रोल नं……………….

कर्मचारियों के आवेदन पत्र का प्रारूप


सेवा में,

मैनेजर का नाम…………………………
डिपार्टमेंट का नाम……………………..
कंपनी का नाम व पता…………………..

विषय – आवश्यक कार्य के लिए अवकाश हेतु।

श्रीमान,

नम्र निवेदन है कि मैं …………………………. आपकी कंपनी में ………………….. के पद पर कार्य कर रहा हूं /रही हूं। मैं आपको सूचित करना चाहता हूं कि मैं जरूरी कार्य………………………………… के कारण 1 दिन के लिए कार्यालय में नहीं आ पाऊंगा/ पाऊंगी।

अगर मेरी अनुपस्थिति में कोई विशेष कार्य आता है तो आप मुझे मेरे मोबाइल नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। कृपया मुझे दिनांक ……………………. अवकाश देने की कृपा करें। इसके लिए मैं आपका सदा आभारी रहूंगा।

धन्यवाद

दिनांक ……………..

भवदीय
आपका नाम…………….
मोबाइल नंबर………….

जनसाधारण के Aavedan Patra का प्रारूप

सेवा में,
मुख्य अभियंता
जयपुर विधुत निगम (अपने बिजली विभाग का नाम लिखे)
जयपुर, राजस्थान (अपने शहर/ गांव का नाम)

विषय – (शिकायत का विषय लिखे)

माननीय महोदय,

मेरा नाम____(अपना नाम लिखें), मैं वार्ड नंबर( अपना वार्ड नंबर लिखें) का/की निवासी हूं। मेरा बिजली मीटर संख्या………………………(मीटर का नंबर लिखें)। यह है महोदय मैं आपको सूचित करना चाहता हूं /चाहती हूं कि मेरे_……………………………………………….(अपनी समस्या/ शिकायत लिखें)।

अतः आपसे निवेदन है कि मेरी इस समस्या का जल्द से जल्द समाधान करने की कृपा करें, इसके लिए मैं आपका सदा आभारी रहूंगा/रहूंगी।

धन्यवाद

दिनांक : –/–/—

प्रार्थी
(अपना नाम लिखे)
(अपना पता लिखे)

यह भी पढ़ें –


Anopcharik Patra in Hindi – अनौपचारिक पत्र लेखन

Formal Letter in Hindi to Principal – प्रधानाचार्य को औपचारिक प्रार्थना पत्र

FIR Application in Hindi – एफ आई आर के लिए एप्लीकेशन

Application in Hindi for Leave – अवकाश लेने हेतु प्राथना पत्र

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Aavedan Patra in Hindi आपको पसंद आया होगा। अगर यह पत्र आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.