बिल्ली पर निबंध – Essay on Cat in Hindi

Essay on Cat in Hindi : दोस्तों आज हमने बिल्ली पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10 और 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखा है. इस निबंध की सहायता से सभी विद्यार्थी परीक्षाओं में निबंध लिख सकते है.

बिल्ली पालतू जानवर है जो कि बहुत ही प्यारी है यह सबको पसंद है इसीलिए आज हम इस निबंध की सहायता से बिल्ली के बारे में जानकारी देंगे.

Essay on Cat in Hindi

Get Some Best Essay on About Cat in Hindi Under 100, 250 and 800 words for student

10 Lines Essay on Cat in Hindi


(1) बिल्ली एक मध्यम आकार की पालतू जानवर होती है.

(2) बिल्ली के चार पैर होते है और पंजों में नुकीले नाखून होते है.

(3) बिल्ली के 1 लंबी पूछ होती है

(4) यह सफेद, भूरे, काले रंग की होती है

(5) इसकी दो आंखें होती है, जिनका रंग नीला हरा काला और पीला हो सकता है.

(6) बिल्ली के दो कान होते है जिससे यह धीमी आवाज भी सुन सकती है.

(7) इसके पूरे शरीर पर छोटे-छोटे बाल होते है.

(8) यह सर्वाहारी होती है इसलिए है दूध, मांस, चूहे, रोटी इत्यादि खा लेती है.

(9) यह संसार के प्रत्येक प्रांत में पाई जाती है इसको घरों में पालतू जानवर के रूप में पाया जाता है.

(10) बिल्ली तेज गति से दौड़ सकती है और छलांग भी लगा सकती है.

Best Essay on Cat in Hindi 250 words


बिल्ली एक छोटा और प्यारा जानवर होती है, यह बहुत ही सुंदर होती है देखने में यह बाघ जैसी दिखाई देती है. घरों में इसको पालतू जानवर के रूप में पाला जाता है यह बच्चों को बहुत अधिक पसंद होती है.

Cat बहुत ही बुद्धिमान होती है यह इंसानों के हाव भाव को समझती है. बिल्ली का शरीर कुत्ते के पिल्ले जितना होता है यह सफेद, काले, भूरे रंग में पाई जाती है. इसकी दो आंखें होती है जिनका रंग पीला, नीला, हरा, भूरा काला हो सकता है.

रात में इसकी दोनों आंखें चमकती है और यह अंधेरी में भी अच्छी तरह से देख सकती है. इसके चार पैर होते है और किस के पंजों नुकीले नाखून होते है. बिल्ली के छोटे बच्चे के मुंह में 26 दांत होते हैं और एक वयस्क बिल्ली के मुंह में 30 दांत होते है.

यह इंसानों की तरह ही सर्वाहारी है इसे भोजन में दूध, मांस, मछली, चूहे, रोटी खाना बहुत पसंद है. बिल्ली जब भी शिकार करती है तो दबे पांव चलती है और घात लगाकर शिकार करती है.

यह भी पढ़ें – कौआ पर निबंध – Essay on Crow in Hindi

बिल्ली को सोना बहुत पसंद है इसलिए यह 1 दिन में 9 से 10 घंटे तक सोती है. बिल्ली संसार के सभी देशों में पाई जाती है लेकिन इसे पश्चिमी देशों में अधिक मात्रा में पालतू जानवर के रूप में पाला जाता है.

इसका जीवनकाल 10 से 15 साल का होता है और यह एक बार में 3 से लेकर 7 बच्चों को जन्म दे सकती है. पालतू बिल्ली शांत स्वभाव की होती है लेकिन जंगली बिल्ली झगड़ालू स्वभाव की होती है.

Essay on About Cat in Hindi 800 Words


बिल्ली बहुत ही प्यारा और पालतू जानवर है यह इंसानों के साथ घुल मिलकर जीवन जीना पसंद करती है. बिल्ली आमतौर पर सभी प्रांतों में पाई जाती है और इसको घर में पालतू जानवर के रूप में पाला जाता है जिस घर में यह रहती है उस घर में चूहे नहीं रह पाते है.

बिल्ली को आराम करना बहुत पसंद होता है वह ज्यादातर सुस्ताती रहती है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह आलसी है इसका शरीर बहुत लचीला और स्फूर्ति से भरा होता है. यूरोप और उत्तरी अमेरिका में बिल्लियों को बहुत अधिक मात्रा में पालतू रूप में पाया जाता है.

बिल्ली की शारीरिक संरचना –

बिल्ली का शरीर छोटे-छोटे रेशमी बालों से गिरा हुआ होता है यह देखने में छोटे बाघ का स्वरूप दिखाई देती है. बिल्ली के शरीर की मांसपेशियां बहुत लचीली होती है जिसके कारण यह लंबी छलांग लगा पाती है और ऊंचाई से गिरने पर भी इसे चोट नहीं आती है.

बिल्ली के चार पैर होते है और इस के पंजों में नुकीले नाखूनों होते हैं जिसकी सहायता से इसकी पकड़ मजबूत होती है और यह चूहों का शिकार कर पाती है.

इसके पैर नीचे से गद्दार होते हैं जिससे यह जब भी शिकार करने जाती है तो इसके पैरों की आवाज नहीं आती है. यह सफेद, भूरे, काले रंगो में पाई जाती है.

इसकी दो चमकीली आंखें होती हैं जिसकी सहायता से यह अंधेरी में भी साफ देख पाती है इसकी आंखों का रंग हरा, नीला, भूरा, पीला, काला हो सकता है.

इसके एक नाक और दो कान होता है जिसकी सहायता से इसके सुनने और सूंघने की शक्ति बहुत प्रखर होती है.
बिल्ली के एक लंबी पूछ होती है जिससे उसको उछलते समय बैलेंस बनाने में मदद मिलती है.

बिल्ली के बच्चे के मुंह में 26 दांत होते है जबकि एक वयस्क बिल्ली के मुंह में 30 दांत होते है. एक वयस्क बिल्ली का वजन 5 से 8 किलो का होता है. यह एक बार में 1 से लेकर 10 बच्चों को जन्म दे सकती है.

बिल्ली की जीवन शैली –

बिल्ली की जीवन शैली अन्य जीव जंतुओं की तरह सामान्य होती है लेकिन बिल्ली को पालतू रूप में पाला जाता है इसलिए पालतू बिल्ली का स्वभाव अच्छा होता है वह इंसानों के हाव भाव को समझने लग जाती है. लेकिन जंगली Cat का स्वभाव थोड़ा गुस्सैल किस्म का होता है

वह इंसानों के साथ घुलना मिलना पसंद नहीं करती है बिल्ली बाघ की तरह ही दबे पांव छुपकर शिकार करती है. यह म्याऊं म्याऊं की आवाज निकाल कर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करती है.

जब भी बिल्ली खुश होती है तो वह अपनी पूछ को हिला कर इसकी प्रतिक्रिया देती है. बिल्लियों को सुस्ताना बहुत पसंद होता है इसलिए यह 1 दिन में 8 से 10 घंटे तक सोती है.

बिल्ली को मांस, मछली, चूहे, चिड़िया, कबूतर, दूध और रोटी खाना बहुत अधिक पसंद होता है. यह दिन भर इधर-उधर उछल कूद करती रहती है और अपने भोजन की तलाश में घूमती रहती है.

बिल्ली की प्रजातियां –

बिल्ली की पूरे विश्व में लगभग 36 प्रजातियां पाई जाती है, शेर, बाघ, जगुआर और तेंदुआ भी बिल्ली की प्रजाति ही है. दिल्ली की कुछ प्रजातियों के नाम इस प्रकार है – प्रोफेलिस औरता, फेलिस निग्रिप्स, कैरकल,कैटोपुमा टेमिन्की, ऑरेइलुरस जैकबिता इत्यादि है.

बिल्ली के रोचक तथ्य –

(1) बिल्लियों की दुनिया भर 50 करोड़ से भी ज्यादा जनसंख्या है.

(2) लगभग 24 बिल्लियों की खाल से एक कोट बनाया जा सकता है.

(3) बिल्लियों के समूह को “क्लैडर” कहा जाता है.

(4) रिसर्च के अनुसार अमेरिका में हर साल लगभग 40000 लोगों को बिल्लियां काट लेती है.

(5) बिल्ली कुत्ते की तुलना में बेहतर तरीके से सुन सकती है.

(6) एक बिल्ली कुछ समय के लिए 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है.

(7) अभी तक एक बिल्ली ने एक समय में 19 बच्चों को जन्म दिया है जिसमें से 15 बच्चे ही बड़े हो पाए.

(8) प्राचीन काल में मिस्र के लोगों बिल्लियों की पूजा करते थे.

(9) बिल्लियां 20 मीटर से भी अधिक ऊंचाई से कूदने पर भी चोट नहीं आती है.

(10) एक बिल्ली अपनी ऊंचाई से 5 गुना ज्यादा लंबी छलांग लगा सकती है.

(11) बिल्ली के चेहरे पर आमतौर पर मूछों के बाल 12 ही होते है.

(12) बिल्ली का झगड़ा अन्य जानवरों की तरह अगल बगल में नहीं चल सकता इसलिए यह ज्यादातर भोजन को चबा नहीं पाती है.

(13) एक बिल्ली प्रेमी को (Ailurophilia) कहा जाता है.

(14) बिल्लियों के प्रति वर्ग इंच लगभग 130,000 बाल होते है.

(15) बिल्ली के नाक पर इंसानों के फिंगरप्रिंट की तरह ही अलग अलग पहचान चिन्ह होते है.

बिल्लियां स्वभाव की बहुत अच्छी होती हैं इन्हें हमें प्यार से रखना चाहिए बल्कि हमें प्रत्येक जानवर को प्यार करना चाहिए क्योंकि यह सिर्फ तुमसे प्यार चाहते हैं और कुछ नहीं, बदले में यह में इंसानियत का अहसास दिलाते हैं और हमारी सुरक्षा भी करते है.

जापान में बिल्लियों को शुभ माना जाता है जबकि भारत में बिल्ली के रास्ता काट जाने पर उसे अशुभ माना जाता है.


यह भी पढ़ें –

बाघ पर निबंध – Essay on Tiger in Hindi

ऊँट पर निबंध – Essay on Camel in Hindi

तीतर पक्षी पर निबंध – Essay on Teetar Bird in Hindi

कुत्ता पर निबंध – Essay on Dog in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Essay on Cat in Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.