कुत्ता पर निबंध – Essay on Dog in Hindi

Essay on Dog in Hindi : दोस्तों आज हमने कुत्ते पर निबंध लिखा है अक्सर विद्यार्थियों को स्कूल में कुत्ते पर निबंध लिखने के लिए दिया जाता है इसीलिए हमने विद्यार्थियों की सहायता करने के लिए यह निबंध प्रत्येक कक्षा के हिसाब से छोटे-छोटे भागों में बैठकर लिखा है.

कुत्ते पर निबंध में हमने उसकी शारीरिक रचना, भोजन, विशेषता और नस्ल इत्यादि का वर्णन किया है.

essay on dog in hindi

10 Line Essay on Dog in Hindi


(1) कुत्ता एक चौपाया जानवर होता है।

(2) कुत्ते के दो चमकीली आंखें होती है।

(3) कुत्ता एक बुद्धिमान जानवर होता है।

(4) कुत्ते के मुंह में नुकीले दांत होते है।

(5) यह काले, सफेद, भूरे इत्यादि रंगों में पाया जाता है।

(6) कुत्ते का शरीर नस्ल के आधार पर छोटा बड़ा होता है।

(7) कुत्ता सर्वाहारी होता है इसीलिए यह मांस और सब्जियां दोनों खा सकता है।

(8) कुत्ते के पैरों में नुकीले नाखून होते है।

(9) कुत्ता अपने मालिक के प्रति जिंदगी भर वफादार रहता है।

(10) कुत्ता सोते समय भी बहुत सतर्क होता है थोड़ी सी भी आहट पर यह जाग जाता है।

Best Essay on Dog in Hindi 200 Words


कुत्ते 30 से 40 हजार साल पहले से ही इंसानों द्वारा घरों में पालतू जानवर के रूप में पाले जाते है कुत्ते का वैज्ञानिक नाम कैनिस लुपुस फैमिलिरिस होता है कुत्ते के बच्चे को पिल्ला और मादा कुत्ते को कुतिया कहा जाता है.

कुत्ता ज्यादातर इंसानों के आसपास रहना पसंद करता है क्योंकि इसे उन्हीं के द्वारा खाना प्राप्त होता है. जानवरों में कुत्ता सबसे वफादार जानवर है जिसके कारण यह है घरों की रखवाली के लिए सबसे ज्यादा पाला जाता है.

अमेरिका एक ऐसा देश है जहां पर सबसे ज्यादा लगभग 7 करोड़ के करीब पालतू कुत्तों को पाला जाता है. कुत्ते के चार पैर होते है जिसके कारण इसे चौपाया जानवर भी कहते है इसके पूरे शरीर पर छोटे-छोटे बाल होते हैं यह काले सफेद भूरे ग्रे इत्यादि रंगो में पाया जाता है.

कुत्ते के दो आंख होती है और एक नाक होता है जिसकी सहायता से ही है इंसानों की तुलना में 10 गुना ज्यादा सूंघ सकता है. कुत्ते के दो कान होते है जिनसे धीमी से धीमी आवाज भी सुन सकता है. यह मांसाहारी और शाकाहारी दोनों प्रकार का भोजन आसानी से पचा लेता है.

कुत्ता बहुत तेजी से दौड़ सकता है बर्फीले स्थानों पर कुत्तों को सामान ढोने के रूप में भी काम में लिया जाता है.

Essay on Dog in Hindi 300 Words


कुत्ता बहुत समझदार और वफादार जानवर होता है यह इंसानों का सच्चा मित्र होता है क्योंकि यह इंसानों की तरह ही सोच और भावनाओं को समझ सकता है इसीलिए जब भी कुत्ता अपने मालिक से कई सालों बाद भी मिलता है तो उसे याद रखता है और मालिक के दूर होने पर दुख व्यक्त करने के लिए रोता भी है.

एक व्यस्क कुत्ते के मुंह में 42 दांत होते है कुत्ते की एक नाक होता है इसके सूंघने की छमता इंसानों के मुकाबले बहुत अधिक होती है जिसके कारण इसका उपयोग चोर पकड़ने, विस्फोटक आदि का पता लगाने के लिए पुलिस द्वारा उपयोग में लिया जाता है.

अलग-अलग देशों में कुत्ते की अलग-अलग नस्लें पाई जाती है. कुत्ते और भेड़िए के पूर्वज एक ही थे जिसके कारण यह देखने में एक जैसे लगते हैं और इनका डीएनए में 99% तक एक समान है. एक कुत्ते का औसतन जीवनकाल 15 से 20 वर्ष का होता है लेकिन कुछ कुत्ते से अधिक अवधि तक भी जीवित रहते है.

यह भी पढ़ें – बिल्ली पर निबंध – Essay on Cat in Hindi

कुत्ता भोजन में मांस फल सब्जियां इत्यादि खा सकता है इसलिए इसे इंसानों की तरह ही सर्वाहारी भी कहा जाता है. कुत्ता नींद में भी इतना सतर्क होता है कि यह छोटी सी आवाज फिर भी उठ खड़ा होता है इसीलिए जिस घर में कुत्ते को पाला जाता है उस घर में चोरों का आना मुश्किल होता है.

कुत्ता अपनी भावनाएं पूछ हिला कर या फिर भोंक कर व्यक्त करता है. मादा कुत्ते को हिंदी में कुतिया कहा जाता है और उसके बच्चे को पिल्ला कहा जाता है. कुत्ता एक ऐसा प्राणी है जो कि हर प्रकार के वातावरण के हिसाब से अपने आप को ढाल लेता है इसीलिए इस की प्रजाति हर देश में पाई जाती है.

कुत्ते का शरीर इंसानों की तुलना में अधिक गर्म होता है फिर भी इसके शरीर से पसीना नहीं आता है सिर्फ नाक और पंजों से पसीना आता है.

Essay on Dog Information in Hindi 1000 Words


प्रस्तावना –

पुरातन काल से ही इंसानों द्वारा कुत्तों को पालतू जानवर के रूप में पाला जाता है वर्षों पहले वाले कुत्ते भेडियों की तरह जगली होते थे लेकिन धीरे-धीरे इंसानों के साथ घुलते मिलते गए और पालतू जानवर बन गए.

आज भी जंगल में रहने वाले कुत्ते वीडियो की तरह शिकारी होते हैं और वे इंसानों पर हमला कर सकते है पूरी दुनिया भर में कुत्तों की कई नस्ल पाई जाती है.

कुत्ता एक ऐसा जानवर है जो कि इंसानों की भावनाओं को पढ़ लेता है इसीलिए मैं इंसानों के सुख में खुश रहता है और जब भी उनका मालिक दुखी होता है तो वह भी दुखी हो जाते है. कुत्ता ही मात्र एक ऐसा प्राणी है जो कि इंसान का किसी भी परिस्थिति में साथ नहीं छोड़ता है वह अपने मालिक के साथ हमेशा मित्रता का व्यवहार बनाए रखता है.

कुत्ते की शारीरिक रचना –

कुत्ता एक चौपाया जानवर है इसके पैर कंधों से अलग होते हैं जिसके कारण यह है तेजी से दौड़ पाता है. कुत्ते के चारों पैरों में नुकीले नाखून होते है. कुत्ते के दो चमकीली आंखें होती है. कुत्ते के पीछे की टांगों की तरफ एक पूछ होती है.

विभिन्न प्रकार की ध्वनियाँ सुनने के लिए कुत्ते के दो कान होते है. पूरे विश्व में कुत्ते की विभिन्न प्रजातियां पाई जाती हैं जिसमें किसी का शरीर बड़ा होता है तो किसी का छोटा किसी के शरीर पर बाल बड़े होते है तो किसी का छोटे इसी प्रकार है इन के रंगों में भी विभिन्न ता पाई जाती है.
कुत्ते की गर्दन छोटी और पतली होती है कुत्ते की शारीरिक रचना और व्यवहार भेडियों और लोमड़ी से मिलता जुलता होता है ऐसा माना जाता है कि इनके पूर्वज एक ही थे.

कुत्ता स्तनधारी जीव होता है इसलिए मैं अपने छोटे पिल्लों को दूध पिलाता है.

कुत्ते की विशेषता –

(1) कुत्ते का वैज्ञानिक नाम कैनिस लुपुस फैमिलिरिस होता है और मादा कुत्ते का नाम हिंदी भाषा में कुतिया होता है और कुत्ते के बच्चे का नाम पिल्ला होता है.

(2) एक व्यस्क कुत्ते के मुंह में 42 दांत होते है और छोटे कुत्ते के मुंह में 28 दांत होते है.

(3) इंसानों की तुलना में कुत्ते का खून 13 प्रकार का होता है जबकि इंसानों में सिर्फ चार प्रकार का होता है.

(4) कुत्ते का छोटा बच्चा भी इंसान की बच्चे जितना ही बुद्धिमान होता है.

(5) कुत्ता भी इंसानों की तरह सपने देख सकता है और इंसानों की तरह ही लोगों की भावना समझ सकता है.

(6) कुत्ते के शरीर में केवल नाक और पंजों से ही पसीना निकलता है.

(7) कुत्ते का जीवनकाल 15 से 20 वर्ष का होता है.

यह भी पढ़ें – कौआ पर निबंध – Essay on Crow in Hindi

(8) जर्मन शेर्फड प्रजाति के कुत्ते के नाक में इंसानों की तुलना में 22 करोड़ कोशिकाएं पाई जाती हैं जबकि इंसानों में सिर्फ 20 लाख कोशिकाएं पाई जाती है इसी कारण यह कोई भी दुर्गंध या सुगंध दूर से ही सूंघ सकते है.

(9) कुत्ता अपने मालिक को सूंघ कर ही पहचान सकता है और सालों तक उसे याद रखता है.

(10) कुत्ता दस विभिन्न प्रकार की आवाजे अपने मुहं से निकाल सकता है.

(11) कुत्ते की सुनने की सकती बहुत अधिक होती है इंसानों की तुलना में यह है 35,000 कंपनी प्रति सेकंड वाली आवाज भी सुन सकता है जबकि इंसान केवल 20000 डेसीबल वाली आवाज ही सुन सकता है.

(12) कुत्ते की आंखों पर 3 पलके होती है.

(13) एक औसत अनुमान के अनुसार कुत्ता एक बार में 6 से 8 बच्चे दे सकता है.

(14) कुत्ता जब भी खुश होता है तो अपनी पूंछ को जोर जोर से हिलाता है और अपने मालिक को चाटता है.

(15) कुत्ता ही मात्र एक ऐसा प्राणी है जो कि इंसानों की आंखों में देखकर पता लगा लेता है कि इस समय इंसान कैसा महसूस कर रहा है इसीलिए कुत्ता इंसानों के खुश होने पर खुश रहता है और जब कोई गम का माहौल होता है तो कुत्ता भी साथ में रोता है.

कुत्ते का भोजन –

कुत्ता भोजन में मांस मछली फल सब्जियां रोटियां इत्यादि खा सकता है यह इंसानों की तरह ही सर्वाहारी होता है पहले यह केवल मांस खाता था लेकिन जब से इंसानों ने इसे पालतू जानवर के रूप में पालना शुरू किया है यह शाकाहारी भोजन भी करने लगा है.

कुत्ते को अगर भोजन में चॉकलेट खिला दी जाए तो उसकी मृत्यु भी हो सकती है क्योंकि चॉकलेट में थियोब्रोमाइन नामक तत्व पाया जाता है जो कि कुत्ते की शरीर के लिए जहर का काम करता है.

कुत्ते का उपयोग –

कुत्ते का उपयोग पुराने जमाने में इंसानों द्वारा परजीवीयोँ से रक्षा करने के लिए और सामान ढोने के उपयोग में लिया जाता था लेकिन वर्तमान में इसे घरों से चोरों को दूर रखने के लिए किया जाता है.
कुत्ते का उपयोग पुलिस द्वारा भी विस्फोटक का पता लगाने और अपराधियों का पता लगाने के लिए किया जाता है.

कुत्ता अन्य व्यक्तियों और जानवरों से अपने मालिक की रक्षा भी करता है.एक समझदार कुत्ता मालिक की मुश्किल में होने पर पुलिस को भी सूचित कर देता है.

वर्तमान में कुत्ते पुलिस विभाग, वैज्ञानिक शोध केंद्र, रेलवे, आर्मी इत्यादि में नौकरी भी करते है.

वर्तमान में मनोरंजन के लिए कुत्तों की रेस भी करवाई जाती है.

बर्फीली स्थानों पर कुत्तों के पीछे स्लेज बांधकर यात्रा का आनंद लिया जाता है.

कुत्ते की नस्ल –

विश्व में कुत्ते की विभिन्न प्रकार की नस्ले होती हैं जिनमें से कुछ नाम निम्नलिखित है-
बुलडॉग, जर्मन शेफर्ड, अक्बाश डॉग, एरिएज पॉइंटर, बसेंजी, बारबेट, ब्लू लेसी, बॉक्सर, ब्रैयार्ड, कैर्न टेरियर, केन कोर्सो, पॉलिश ग्रेहाउंड इत्यादि है.

उपसंहार –

कुत्ता एक अच्छा पालतू जानवर है जो कि इंसानों के साथ हमेशा मित्रता पूर्वक व्यवहार करता है. हमें कुत्तों को कभी भी चोट नहीं पहुंचानी चाहिए. यह बोल नहीं सकते लेकिन यह हमारी भावनाओं को समझ सकते हैं इसलिए हमेशा इनसे प्यार करना चाहिए.

अगर कुत्तों से सही प्रकार से पेश आया जाए तो यह बदले में अपने मालिक की रक्षा करते हैं और घर की सुरक्षा भी करते है. हमें हमेशा सभी प्राणियों से अच्छा व्यवहार करना चाहिए क्योंकि उनका जीवन हमारे ऊपर ही निर्भर होता है.

अगर हम कुत्तों और अन्य जानवरों से अच्छा व्यवहार करेंगे तो वह भी हमारे साथ अच्छा व्यवहार करेंगे और हमारे साथ घुल मिलकर रहेंगे.


यह भी पढ़ें –

घोड़ा पर निबंध – Essay on Horse in Hindi

ऊँट पर निबंध – Essay on Camel in Hindi

गाय पर निबंध – Essay on Cow in Hindi

बाघ पर निबंध – Essay on Tiger in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Essay on Dog in Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.