100+ दोस्ती शायरी – Dosti Shayari in Hindi

Dosti Shayari in Hindi : दोस्तों आज हमने दोस्ती पर शायरी लिखी है, दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जो कि इंसान स्वयं बनाता है। दोस्ती का रिश्ता खून का रिश्ता तो नहीं होता लेकिन उससे बढ़कर होता है क्योंकि यह प्रेम और विश्वास के ऊपर टिका होता है।

Dost ऐसे साथी होते हैं जो जिंदगी भर सुख हो या दु:ख दोनों में साथ निभाते है, कई बार हम अपनों से कुछ बातें छुपा लेते है लेकिन दोस्तों से सारी बातें शेयर करते है। आपको भी अपनी जिंदगी का पहला दोस्त याद आता होगा जिसके साथ आप ने बचपन में खूब खेलकूद, लड़ाई झगड़ा, पढ़ाई-लिखाई की होगी।

लेकिन वर्तमान की भागदौड़ भरी जिंदगी में उन दोस्तों से मिलना हो तो मुश्किल हो जाता है इसलिए उनकी याद में हमने Dosti Par Shayari लिखी है जिसकी सहायता से आप अपनी भावनाएं अपने सबसे अच्छे दोस्त को शायरी के रूप में व्यक्त कर सकते है।

dosti shayari in hindi

Get Some Best and Latest Dosti Shayari in Hindi

Best Dosti Shayari in Hindi


(1)

दोस्त नहीं पहली आस हो तुम,
रिश्तो में नहीं विश्वास में हो तुम,
प्यार भरे दिन की शुरुआत में हो तुम।

(2)

मेरी हर पहेली का राज हो तुम,
सुबह का पहला का आगाज हो तुम,
ए-दोस्त तुम पूरी जिंदगी हो मेरी।

(3)

साहिल को किनारों की तलाश थी,
दुनिया को एक दूसरे से आस थी,
हमारे लिए तो बस आपकी,
दोस्ती ही सबसे खास थी।

(4)

वक्त की यारी तो हर कोई कर लेता है दोस्त,
मजा तो तब है, जब वक्त बदले पर यार ना बदले।

यह भी पढ़ें – दोस्ती पर कविता – Poem on Friendship in Hindi

(5)

हर खुशी की सोगात हो तुम,
मेरे चहरे की पहली मुस्कान हो तुम,
तुम दोस्त नही दोस्ती का ताज हो।

(6)

कुछ वक्त का इंतजार मिला मुझको,
जिंदगी से बढ़कर यार मिला मुझको,
ना रही तमन्ना किसी जन्नत की मुझे,
तेरी दोस्ती से वो प्यार मिला मुझको।

(7)

do pal ki zindgi h yaro gale mil ke bita lo yaro

दो पल की जिन्दगी है यारो,
मिलकर गले बिता लो यारो,
दो घड़ी संग बिता लो यारो।

(8)

जो पल-पल चलती रहे उसे जिन्दगी कहते है,
जो हर पर जलती रहे उसे रौशनी कहते है,
जो पल पल खिलती रहे उसे मोहब्बत कहते है,
और जो साथ न छोड़े कभी उसे दोस्ती कहते है।

(9)

कुछ लोग पैसो के लिए जीते है,
कुछ सपनों के लिए जीते है,
कुछ अपनों के लिए जीते है,
हम तो सिर्फ तेरी दोस्ती के लिए जीते है।

(10)

लोग कैसे जीते है पता नही लेकिन,
हम तो जिन्दगी ऐसे जीते है यारो,
कि हर लम्हा दोस्ती के नाम होता है।

(11)

हर कर्ज है दोस्ती, हर फर्ज है दोस्ती,
हर दुआ में है दोस्ती, हर पल में है दोस्ती,
ए दोस्त तू है तो पूरी जिंदगी है दोस्ती।

(12)

मिलना बिछड़ना सब मुकद्दर का खेल है,
कभी लड़ना तो कभी दिल में रहना है,
खरीदने वाले बहुत आए आपको हमसे,
पर आपकी दोस्ती हमारे लिए नोट फॉर सेल है।

(13)

ना किसी की चाहत थी,
ना पढाई का जज्बा था,
चार कमीने दोस्त थे,
और लास्ट सीट पर कब्जा था।

(14)

मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुश्किल नहीं,
वो हंसना भूल जाते है मुझे रोता देखकर।

Dosti Par Shayari

(15)

bhule se bhi na bhule aise teri dosti hai

भूले से भी ना भूल सकू ऐसी तेरी दोस्ती है,
वो लम्हा आखिरी होगा ज़िन्दगी का हमारा,
जिस दिन हम यार तुझ को भूल जायेंगे।

(16)

सर झुकाता हु बस खुदा के आगे,
और दोस्त मेरा किसी और
के आगे सर झुकने नही देता।

यह भी पढ़ें – शिक्षक दिवस पर शायरी – Teachers Day Shayari in Hindi

(17)

जो निकले थे मुझे मिटाने,
डर गए रास्ते में खड़ा मेरा दोस्त देख कर।

(18)

कि दोस्ती के लिए मै दिल तोड़ सकता हु,
पर दिल के लिए दोस्ती नहीं छोड़ सकता!

(19)

बचपन की दोस्ती के नाम…
सुबह-सुबह स्कूल जल्दी जा कर,
साथ वाली कुर्सी पर बैग रख कर,
ये कहना याद आता है कि,
ओये सुन ये मेरी दोस्त की जगह है।

(20)

नसीब का प्यार, और गरीब की दोस्ती,
कभी धोखा नहीं देती, कभी धोखा नहीं देती।

(21)

दोस्ती किसी पैसे की मोहताज नहीं होती,
दोस्ती रिश्ते की नहीं रिश्ते दोस्ती के मोहताज होते है।

(22)

सोचता हु दोस्तों पर मुकदमा कर दू,
कमबख्त इसी बहाने मुलाकात तो होगी।

(23)

dosti par shayari

समंदर ना हो तो कश्ती किस काम की,
मजाक ना हो तो मस्ती किस काम की,
ये जिंदगी कुर्बान है दोस्तों के लिए,
दोस्त ना हो तो ये जिंदगी किस काम की..

(24)

भरी महफ़िल में दोस्ती का जिक्र हुआ,
हमने सिर्फ आप की और देखा और,
लोग वाह वाह करने लगे।

(25)

हाँ मै दोस्तों की दोस्ती में पागल हु,
क्यों की देखा अक्सर मैंने समझदार लोग,
मुसीबत में साथ छोड़ जाते है।

(26)

एक दोस्त ने दुसरे दोस्त से पूछा दोस्ती क्या है..!
दूसरा दोस्त हंस कर बोला एक दोस्ती ही तो है,
जिसका कोई मतलब नहीं और,
जहां मतलब हो वहां दोस्ती नहीं।

(27)

हमारी अदालत में सोच समझकर कदम रखना यारो,
यहां धोखा देने वालों की जमानत नहीं होती।

(28)

बिगड़ी हुई ज़िंदगी की बस इतनी सी कहानी है,
कुछ तो था में पहले से ही कमीना,
बाकी मेरे दोस्तों की मेहरबानी है।

(29)

रात को मुझसे पूछा चांद सितारों ने,
तुझे भुला दिया तेरी जिगरी यारों ने,
मैंने कहा भूले नहीं फरियाद तो करते होंगे,
अरे मेरे मैसेज पढ़ कर मुझे याद तो करते होंगे।

Apni Dosti Shayari in Hindi

(30)

hindi shayari dosti ke liye

जाने क्यों लोग बदल जाते है,
जाने क्यों मीठे रिश्ते कड़वे हो जाते है,
जाने क्यों अनजान लोग दोस्त बनकर,
जीवन भर साथ निभाते है।

(31)

कट जाएगा जिंदगी का यह सफर काटने से,
अगर दोस्त तेरी दोस्ती मिल जाए,
तो ये सफर जन्नत से कम नहीं होगा।

(32)

जी रहा हूं मैं तेरी यादों को आंखों में सजा कर,
जब इंतहा हो जाती है गमों की मेरी जिंदगी में,
तो ए दोस्त तेरी यादों के सहारे खुश रहता हूं।

(33)

प्रण है दोस्ती, समर्पण है दोस्ती,
भाव है दोस्ती, विश्वास है दोस्ती,
धूप में छांव है दोस्ती,
ए दोस्त मेरी जिंदगी है तेरी दोस्ती।

(34)

रहमत बरसाई है खुदा ने,
जिंदगी के सारे गम चुरा लिए तुमने,
खुशियों से भर दिया मेरी जिंदगी का हर पल,
ऐसी दोस्ती निभाई है तुमने।

(35)

दो घड़ी की रुक जा तो सही,
मिले हो तो गले मिल जा सही,
सीने से लगा कर देख प्यार उतना ही है,
आज भी तेरी दोस्ती खुमार उतना ही है।

(36)

अगर चला जाऊंगा इस दुनिया से,
तो आसमान में चमकते तारे को देखकर याद करना मुझे,
मिलना हो हमसे तो दुआ मांग लेना,
टूट कर फिर आपकी बाहों में गिर जाएंगे।

(37)

khuda ne khaa dosti mat kar beed me kho jaye ga

खुदा ने कहा दोस्ती ना कर भीड़ में खो जाएगा,
मैंने कहा ए खुदा जमीन पर आकर मेरे दोस्तो से मिल,
तू वापस जाने का रास्ता भूल जायेगा…

(38)

जिंदगी का हर पल तुम्हारे नाम कर देंगे,
हर खुशी तुम पर कुर्बान कर देंगे,
अगर हो शिकवा कोई मेरी दोस्ती में बता देना,
उस दिन ज़िन्दगी को आखिरी सलाम कह देंगे।

(39)

उम्मीद ऐसी हो जो तोड़े से भी ना टूटे,
सपने ऐसे हो जो जीवन जीने की उम्मीद दे,
दोस्तों की दोस्ती ऐसी हो जो मिलने को मजबूर करें।

(40)

सुबह हो या शाम हो तेरी दोस्ती आम नहीं खास हो,
जिंदगी का हर तराना तेरे साथ हो,
भूलू अगर तेरी दोस्ती को तो,
फिर कोई और दोस्त ना हो।

(41)

अगर मैं दिल हूं तो तुम धड़कन हो,
मैं चांद हूं तो तुम सितारे हो,
मैं धरती हूं तो तुम आसमान हो,
ए दोस्त तुम मेरे लिए खुदा की दुआ हो।

(42)

तन्हा था मैं इस दुनिया में,
भीड़ तो बहुत थी पर कोई अपना नहीं था,
जब आप जिंदगी में आए दोस्ती का पैगाम लेकर,
तो यूँ लगा कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीरो में।

(43)

खामोश था मैं तन्हा थी मेरी जिंदगी,
लाखों थे साथ में पर अकेला ही चलता था,
डूब रहा था मैं भीड़ के इस जंजाल में,
आपने दोस्ती का हाथ बढ़ाया,
तो जीने का असली मकसद समझ में आया।

(44)

Friendship Shayari hindi

जिंदगी के सारे गम क्यों बांट लेते है दोस्त,
जिंदगी के सफर में क्यों साथ देते है दोस्त,
रिश्ता तो उनसे खून का भी नहीं होता,
फिर क्यों अपना मान लेते है दोस्त..

Hindi Shayari Dosti ke Liye

(45)

लोग कहते हैं ज़मीन पर किसी को खुदा नहीं मिलता,
शायद उन्हें दोस्त कोई तुम सा नहीं मिलता,
मैंने तो बस आप से हाथ मिलाया,
आप ने दिल खोलकर जन्नत का दरवाजा खोल दिया।

(46)

हर गम को तेरी खुशी से रंग दूँ,
जिंदगी की हर सांस तेरे नाम कर दूँ,
मिलेगी अगर ये जिंदगी दोबारा तो ऐ दोस्त,
हर बार ये ज़िन्दगी तुझ पे कुर्बान कर दूँ।

(47)

मैं मजबूर, तन्हा अकेला था,
जिंदगी के हर पल में अंधेरा था,
ए दोस्त जब से तुम आए हो मेरी जिंदगी में,
अमावस की रात में भी चांद खिला है।

(48)

रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी,
दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी,
जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा,
उसे ज़िन्दगी से शिकायत क्या होगी।

(49)

दोस्ती वो एहसास है जो जन्नत में भी नहीं मिलता,
दोस्ती को आसमान है जो कभी नहीं झुकता,
दोस्तों की दोस्ती की कीमत क्या है पूछो हमसे,
ये वो अनमोल मोती है जो कभी नहीं बिकता।

(50)

बिंदास रहो यारों जिंदगी की सांसे कम है,
ज़िन्दगी में गम किसको कम है,
याद करने वाले तो बहुत होंगे आपको,
पर आपकी याद आते ही मिलने वाले हम है।

(51)

khud ko bech kar dosti kharid lunga shayari

गम को बेचकर ख़ुशी खरीद लूँगा,
ख्वाबों को बेचकर जिंदगी खरीद लूँगा,
अगर होगा इम्तिहान तो देखेगी दुनिया,
खुद को बेचकर दोस्ती खरीद लूँगा…

(52)

मिलो या ना मिलो तुम तुम्हारी मर्जी,
लेकिन जाने से पहले सुन लो हमारी अर्जी,
दोस्त बनाया है तुमको दिल से,
अब तो जान जाने पर ही निकलोगे तुम दिल से।

(53)

चुराया है मैंने दोस्त तुमको किस्मत की लकीरों से,
दिल में बसाया है तुमको धड़कन को छोड़कर,
ए दोस्त छोड़ न जाना मुझको बीच राह में,
मेरे जैसा दोस्त फिर ना मिलेगा तुमको।

(54)

जिसको कुछ समझा ना करना पड़े वो है दोस्त,
जिसके आगे गम छुपाने से भी ना छुपे वो है दोस्त,
जो मुश्किल में साथ दे वो है दोस्त,
जो रिश्तो से भी बढकर हो वो है दोस्त।

(55)

तू दूर है लेकिन दिल के पास है,
तू मेरी जिंदगी की एक जरूरी आस है,
दोस्त तो हमारे लाखों है इस जहाँ में,
पर तू आंखों में बसा सपना कोई खास है।

(56)

ये दोस्ती तेरे दम से है,
ये बंदगी तेरे दम से है,
जिंदगी के ये चार दिन,
बस तेरी दोस्ती से रोशन है।

(57)

आप दोस्त नहीं दिल का कोई साज है,
आप जैसे दोस्त पर हमे दिल से नाज है,
अब चाहे जिंदगी नाराज हो या आप नाराज हो,
ये दोस्ती वैसी ही रहेगी जैसी आज है।

(58)

ye dost apni dosti itni ghri ho

खुश हो तुम तो खुशी हमारी हो,
रोए अगर तुम तो आँखे हमारी हो,
ए दोस्त अपनी दोस्ती इतनी गहरी हो,
मार हम खाए और गलती तुम्हारी हो।

(59)

फूल तो कांटों में ही खिला करते है,
शायर तो महफिलों में ही मिला करते है,
खुश नसीब बहुत होती है वो शाम,
जब चार यार मिल बैठते है।

Latest Dosti Shayari in Hindi

(60)

रियासत नहीं विरासत हो तुम हमारी,
फूल नहीं महकता हुआ गुलाब हो तुम,
तुम दोस्त नहीं दोस्त से भी बढ़कर,
दिल के कोई खास हो तुम।

(61)

हमनें कहा ऐ बारिश ज़रा थम के बरस,
जब मेरा दोस्त आ जाये तो जम के बरस,
पहले ना बरस की वो आ ना सके,
उसके आने के बाद इतना बरस की वो जा ना सके।

(62)

ये महफिल ना होती अगर तुम ना होते,
ये जिंदगी ना होती अगर तुम ना होते,
ऐसी दोस्ती ना होती अगर तुम ना होते।

(63)

जिसे दिल की कलम और जुबां की बात कहते है,
जिसे लमहों के पन्ने और यादों की किताब कहते है,
यही वो विषय है जिसे दोस्ती कहते है।

(64)

काश मेरी दुआओं में इतना असर हो जाए,
वो गम में हो तो खुशियों में बदल जाएं,
अगर जिंदगी के किसी मोड़ पर मै साथ ना हो तो,
खुदा दोस्त बनकर उसके पास चला जाए।

(65)

par wo ek dost h jo meri har baat samjhta h

कुछ लोग मेरी आदत को समझते है,
कुछ लोग मेरे हालात को समझते है,
कुछ लोग मेरे जज्बात समझते है,
पर वो एक दोस्त है जो मेरी हर बात समझता है।

(66)

समय की चाल बदल सकती है,
आसमा रंग बदल सकता है,
पर अपनी दोस्ती ऐसी होगी,
जो जिंदगी बदल दे लेकिन दोस्त ना बदले।

(67)

ना कोई जात है ना कोई धर्म है,
अपनी तो दोस्ती ही अपना ईमान है।

(68)

तू चले तो हवा बन जाऊं,
तू मिले तो गले से लिपट जाऊं,
तू भटके तो मै रास्ता बन जाऊं,
ऐसे तेरे जिंदगी भर का दोस्त बन जाऊं।

(69)

एक दोस्त ही है जो बिन कहे समझ जाता है,
मैं रो दूं तो वो आंखों से आंसू बनकर निकल जाता है,
मैं गम हो तो वो खुशी के पल लेकर चला आता है।

(70)

यह दिन यूं ही गुजर जाएंगे,
दोस्त हम एक दिन बिछड़ जाएंगे,
तू नाराज ना हो मेरी बातों से,
एक दिन यही पल खुशी के साथ याद आएंगे।

(71)

कोई मुरझाया हुआ फूल फिर खिल उठा,
पतझड़ में भी कोई पेड़ फिर फ़ुट उठा,
तेरी दोस्ती के साए में फिर मेरा मन खिल उठा।

(72)

ye dost tera saath ho to zindgi shayari

जिंदगी के तो अपने ही सफेद काले है किस्से,
ए दोस्त तेरा साथ हो तो मैं सब कुछ हंसकर,
जी लूं और बना लूं अपने ही अपने किस्से…

(73)

दोस्ती एक रिश्ता है जो निभाए वो फरिश्ता है,
दोस्ती सच्ची प्रीत है जुदाई जिसकी रीत है,
जुदा होके भी ना भूले यही दोस्ती की जीत है।

(74)

जिंदगी में अब कोई बात नहीं होगी,
अगर होगी तो वो तेरे साथ होगी,
हर हाल में मुस्कुराते रहेंगे,
अगर दोस्त तेरी दोस्ती साथ रहेगी।

New Dosti Shayari in Hindi

(75)

रूठे को मनाना कोई आपसे सीखे,
रोते हुए को कोई हंसना आपसे सीखे,
दोस्त बनाना तो हर कोई जानता है।
दोस्ती निभाना कोई आपसे सीखे।

(76)

दोस्ती तेरी दोस्ती को ऐसी निभाएंगे,
तेरे गम को हम चुरा कर ले जायेंगे,
बसा देंगे तुमको ऐसी दुनिया में,
जहां खुशियां हम चुन कर लाएंगे।

(77)

दोस्ती का रिश्ता हम इस तरह निभाएंगे,
तुम रोज खफा हो ना हम रोज मनाएंगे,
पर मनाने से मान जाना वरना,
हम तुम्हारे जैसा तो फिर कहां से लाएंगे।

(78)

दोस्त है तो सारी दुनिया छोटी लगती है,
दोस्त नहीं तो शहर भी दुनिया से बड़ा लगता है।

(79)

zindgi gujar jaye gi dostana kam nhi hoga

जिंदगी गुजर जाए पर दोस्ताना कम ना हो,
कयामत तक चमकता रहे दोस्ती का ये सफर,
दुआ करो कि यह रिश्ता कभी खत्म ना हो,
मौत भी आए तो खुदा के घर में भी तेरा साथ हो।

(80)

खुशबू में एक गहरा अहसास होता है,
दोस्ती का रिश्ता खास होता है,
हर बात जुबां से कहना मुमकिन नहीं,
इस लिए दोस्ती का दूसरा नाम विश्वास होता है।

(81)

दोस्ती के लिए खिले हुए फूल जैसी होते है,
जिसे तोड़ दो तो मुरझा जाती है,
और अकेला छोड़ दो तो गुमनाम हो जाती है।

(82)

दोस्त भी कितने कमाल की होते है,
कोई दूर हो तो भी पास लगता है,
मन की हर एक बात को राज रखता है,
इसीलिए दोस्तों का साथ अच्छा लगता है।

(83)

कितने कमाल की होती है ना दोस्ती..
वजन तो होता है लेकिन बोझ नहीं होती।

(84)

तंहा रहना सीख लिया है हमने,
फिर भी कुछ ना रह पाएंगे,
तुझसे दूर तो जा रही है,
पर तेरी दोस्ती बिना जी नहीं पाएंगे।

(85)

खुदा ने हाथ में खुशी की लकीरे ना दी हो सही,
पर आप जैसा दोस्त हर जन्म में मिले,
जो खुद खुशी की लकीर बन जाए।

(86)

dost teri dosti khusiyo ki sogaat h

दोस्त तेरी दोस्ती खुशियों की सौगात है,
तेरा मेरा जिंदगी भर का साथ है,
ये दिलों का वो खूबसूरत एहसास है,
जिसके दम से रोशन ये सारी कायनात है।

(87)

मैं शायर तो, तुम शायरी हो,
मैं रास्ता तो, तुम मंजिल हो,
मैं नदी तो तुम समन्दर हो,
तुम दोस्त नही जान हो मेरी।

(88)

बड़ी मिन्त्तो से मिलता है तेरा जैसा दोस्त,
जो हर सुख दुःख में साथ रहता है,
हर राह में साथ खड़ा होता है,
सलाम है तेरी दोस्ती को।

(89)

ऐ दोस्त तेरी दोस्ती की क्या दाग दू,
तेरी दोस्ती को तो खुदा भी तरसता होगा,
दुआ है रब से हम कभी जुदा ना हो।

Friendship Shayari in Hindi

(90)

कहां समझदार हो गए हम,
वो नासमझी ही प्यारी थी,
जहाँ हर कोई दोस्त था,
हर किसी से यारी थी।

(91)

दोस्ती व्यापार से नहीं दिल से करो,
आप का नाम चाहे कितना भी ऊँचा हो,
लेकिन कदम हमेशा दोस्तों के साथ मिला के चलो।

(92)

किताब पर लिखा है नाम तेरा होगा,
पोस्टर पर छपी हर तस्वीर तुम्हारी होगी,
बस दुआओं में याद रखना है ए दोस्त,
आखिरी सांस तक ये दोस्ती हमारी होगी।

(93)

dosti ka haat aage bdhaya hamne

दोस्ती का हाथ आगे बढ़ाया है हमने,
तुमको सर आंखों पर बिठाया है हमने,
उम्र भर साथ निभाना ए दोस्त,
तुम को दिल से लगाया है हमने…

(94)

तन्हा दिल था, उदास मन था,
दोस्त जब तू जिन्दगी में जब आये
तो जिन्दगी में बहार आयी।

(95)

मेरे भाई, मेरे दोस्त, मेरे हमसफ़र,
तू जो रहा हर पल साथ मेरे,
जिन्दगी का हर सकून मिल गया।

(96)

बातें तो बहुत थी पर हर पास नहीं था कोई सुनने को,
दूर होकर भी दिल के पास हो तुम,
याद किया एक पल तुमको दोस्त,
तो दूसरे पर तुम मेरे साथ थे।

(97)

तुम आये जिन्दगी में तो बहार छा गयी,
पतझड़ में भी फुल खिल गए,
ऐ दोस्त तेरे साथ से हर मंजिल मिल गयी।

(98)

दोस्त ऐसा होना चाहिए जो ख़ुशी में याद ना आये सही,
लेकिन दुःख में सबसे पहले याद आये।

(99)

क्या फर्क होता है दोस्ती में, रहते दोनों दिल में लेकिन,
जब वर्षो बाद प्यार से मिलो ना तो प्यार नजरे चुरा लेता है,
और दोस्त से मिलो ना यार तो वो सिने से लगा लेता है यार।

(100)

दर्द था दिल में पर जताया कभी नहीं,
आंसू थे आँखों में पर कभी दिखाया नहीं,
यही फर्क है प्यार और दोस्ती में,
इश्क ने हंसाया कभी नहीं,
और दोस्त ने रुलाया कभी नहीं…

(101)

अपनी दोस्ती का ऐसा तराना होगा,
याद करेगी दुनिया हमें,
ऐसा हमारा दोस्ती का फसाना होगा।

 

Dosti Shayari in Hindi


यह भी पढ़ें –

दिवाली पर शायरी – Diwali Shayari in Hindi

माँ पर शायरी – Maa Shayari in Hindi

जन्मदिन पर शायरी – Happy Birthday Shayari

रक्षा बंधन शायरी – Raksha Bandhan Shayari

देशभक्ति शायरी – Desh Bhakti Shayari in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Dosti Shayari in Hindi आपको पसंद आये होगे। अगर यह नारे आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.