स्वतंत्रता दिवस पर निबंध – Swatantrata Diwas Par Nibandh

Swatantrata Diwas Par Nibandh : स्वतंत्रता दिवस भारत की आजादी का दिन, हमारी आजादी का दिन। जिसे हम 15 अगस्त के दिन मनाते हैं। Independence Day हम इसलिए मनाते हैं क्योंकि इस दिन हमें लगभग 200 सालों बाद ब्रिटिश हुकूमत से आजादी मिली थी।

ब्रिटिश लोग लगभग 1858 में भारत आए थे और उन्होंने 1947 तक भारत में राज किया। यह ऐसा ऐतिहासिक दिन है जो कि भारत के कई वीर शहीद जवानों की आहुति के कारण आया है।

यह दिन भारतीय लोगों कभी नहीं भुला सकते हैं क्योंकि इस दिन उन्हें खुली हवा में सांस लेने का मौका मिला था इस दिन उन्हें आजादी मिली थी। आइए जानते हैं भारत को किस प्रकार अंग्रेजों से आजादी मिली और वे आज किस प्रकार अपनी आजादी का जश्न मनाते हैं।

swatantrata diwas par nibandh

Get Some Essay on Swatantrata Diwas Par Nibandh for class 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10,11,12.

Best Swatantrata Diwas Par Nibandh


स्वतंत्रता दिवस इतिहास के पन्नो की वो अमिट स्याही है, जिसको ना कभी मिटाया जा सकता है ना ही भुलाया जा सकता है। स्वतंत्रता दिवस हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है, क्योंकि इसी दिन हमारा भारत देश आजाद हुआ था।

15 अगस्त का पावन दिन भारत में एक त्यौहार की तरह मनाया जाता है। इस दिन देश के सभी लोग वीर शहीदों को याद्द करते है उनको श्रधांजलि अर्पित करते है।

यह भी पढ़ें – महात्मा गांधी पर निबंध – Essay On Mahatma Gandhi In Hindi

देश का तिरंगा झंडा हर जगह पर फहराया जाता है। इसके साथ ही 21 बंदूकों की सलामी दी जाती है,  हेलीकॉप्टर चाहिए तिरंगे पर फूलों की वर्षा की जाती हैं यह मनोरम दृश्य देखने लायक होता है। खूब फल, फुल और मिठाईयां बांटी जाती है।

15 अगस्त 1947 को हमारे देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु ने देश के आजाद होने के उपलक्ष में पहली बार लाल किले पर राष्ट्रध्वज तिरंगा फहराया था।

Swatantrata Diwas के दिन देश प्रमुख और सबसे बड़ा आयोजन दिल्ली के लाल किले में होता है। यहाँ पर 15 अगस्त के कुछ दिन पहले ही स्वतंत्रता दिवस की तैयारी शुरू कर दी जाती है। किले में रंग बिरंगी लाईट लगाई जाती है, पुरे किले को रंग-बिरंगे फूलो से दुल्हन की तरह सजाया जाता है। किले में जगह-जगह सुन्दर रंगोली बनाई जाती है। 15 अगस्त के दिन यहाँ पर बहुत भारी संख्या में लोग आते है।

इस दिन देश के प्रधानमंत्री यहाँ पर आकर तिरंगा झंडा फहराते है, इसके बाद हमारे देश का राष्ट्रगान जन गण मन गाया जाता है। देश के प्रधानमंत्री वीर शहीदों और उन महान लोगो को याद करते है जिनके कारण देश को आजादी मिली थी।

इसके बाद वे देश में हो रहे विकास कार्यो पर चर्चा करते है। देश में होने वाले नए परिवर्तन के बारे में बताते है।

इसके बाद वहाँ उपस्थित सभी गणमान्य सदस्य भी भाषण देते है, और देश के हित में आने वाली योजनाओं को बताते है। इसके पश्चात देश के होनहार व्यक्ति जिन्होंने देश के लिए अच्छा काम किया होता है। उनको पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाता है,

उनका मनोबल बढ़ाया जाता है ताकि वे भविष्य में भी ऐसे ही कार्य करते रहे और देश के अन्य व्यक्ति भी उनसे प्रेरणा लें और देश हित में कार्य करें।

उसके बाद देश की सभी सेनाओं की टुकड़ियां अपना अपना करतब दिखाती है,  जो कि उनके वीरता, साहस और शौर्य का प्रतीक होता है। इसके बाद देश के विभिन्न राज्यों से आए कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं साफ शब्दों में कहें तो यहां पर सांस्कृतिक प्रस्तुतियां होती हैं। जो की देश के विभिन्न परंपरा और संस्कृति से सभी देशवासियों को अवगत कराते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के इस खास मौके पर देश के सभी स्कूल, कॉलेजों और सरकारी कार्यालयों में यह दिवस धूमधाम से मनाया जाता है। यहां पर भी सभी अपने स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय और कार्यालयों में राष्ट्रीय ध्वज को फहराते हैं।

स्कूलों और कॉलेजों में तो स्वतंत्रता दिवस की तैयारी 1 महीने पहले ही प्रारंभ कर दी जाती है।

स्कूलों में सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं इसलिए वहां के बच्चे Swatantrata Diwas पर कई रंग बिरंगे कार्यक्रम करते हैं जैसे कुछ बच्चे देश के लिए गीत कविता गाते हैं तो कुछ बच्चे देशभक्ति के गानों पर नृत्य करते हैं और कुछ बच्चे देश भक्ति पर नाटक करते हैं वह दिखलाते हैं कि हमें किस प्रकार आजादी मिली यह सब देशभर के लोगों में आजादी की महत्वता को दर्शाने के लिए किया जाता है।

इससे सभी देश के नागरिकों को पता चलता है की आजादी हमें किस प्रकार मिली  वीर शहीदों का कितना खून बहा है जिसके बाद हमें यह आजादी नसीब हुई है। इस दिन जनहित में कार्य करने वाले लोगों को भी सम्मानित किया जाता है।

15 August Swatantrata Diwas Par Nibandh

इस दिन पूरा भारत देश भक्ति के रंग में रंग जाता है, हर तरफ राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है देशभक्ति के गानों से पूरा भारत गूंज उठता है और देश के लोगों में  देश प्रेम के लिए नई लहर दौड़ जाती हैं। इस दिन पूरे भारत में राष्ट्रीय अवकाश रहता है जिससे सभी लोग हर्षोल्लास से इस दिवस को मनाते हैं।

सभी लोग इस दिन को अपने अपने अंदाज में मनाते हैं कुछ लोग सैर-सपाटे पर निकल जाते हैं कुछ लोग स्कूलों में जाकर सांस्कृतिक कार्यक्रम देखते हैं वहीं कुछ लोग आजकल गरीबों की मदद भी करते हैं। इस दिन सभी लोग एक दूसरे से प्रेम भाव से मिलते हैं और आजादी की शुभकामनाएं देते हैं।

वीर शहीदों और महान लोगों ने यह आजादी हमें दिलाई उसमें महात्मा गांधी जी, लाला लाजपत राय जी, चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह जैसे हजारों देशभक्तों की कुर्बानी से स्वतंत्रत हुआ।युवाओं में भगत सिंह को बहुत याद किया जाता है।

हमारा देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है, इसमें हर धर्म, जाति, भाषा और विभिन्न प्रथाओं को मानने वाले लोग रहते हैं।  फिर भी हमारा देश एकजुट रहता है और इस दिन को सभी लोग एक त्यौहार के रूप में मनाते हैं।

हमारे देश में क्षेत्र हैं लगभग 22 भाषाएं बोली जाती हैं फिर भी लोग एक दूसरे को समझते हैं और उनका आदर करते हैं।

इस दिन हमारे देश के हर सीमा पर भी तिरंगा फहराया जाता है और भारत के वीर सैनिकों द्वारा तिरंगे को सलामी दी जाती हैं और उसके सम्मान में परेड भी की जाती है। इससे हमारे सैनिकों में एक नई ऊर्जा का संचार होता है जिससे वे देश की सुरक्षा के लिए और भी लगन से लग जाते हैं।

हमारे देश के राष्ट्रीय ध्वज को तिरंगा इसलिए कहते हैं क्योंकि  यह तीन रंगों से बना है। पहले केसरिया रंग की पट्टी आती है जो कि हिम्मत और बलिदान का प्रतीक है, दूसरा रंग सफेद होता है जो कि शांति का प्रतीक होता है और हरा रंग विश्वास और शौर्य का प्रतीक होता है।  हमारे देश के झंडे के बीचो-बीच एक चक्कर होता है जिसे अशोक स्तंभ से लिया गया है। जिसमें 24 तीलियां (लाइन) होती हैं और यह नीले रंग का होता है।

भारत का स्वतंत्रता दिवस केवल उत्सव के रूप में नहीं मनाया जाता है इस दिन हमारे देश की सेवा करने वाले और देश के लिए मर मिटने वाले उन वीर शहीदों को भी याद किया जाता है जिसके कारण आज हम इस आजादी को देख पा रहे हैं। उनको स्मरण करने के मात्र ही हमारे शरीर में एक नई ऊर्जा का संचार होता है।  उन्हीं के कारण आज हम इस आजाद देश में आजादी से सांस ले पा रहे हैं।

उन वीर शहीदों के लिए एक छोटी सी पंक्ति भी याद आती है जो इस प्रकार है-

ऐ मेरे वतन के लोगों,

ज़रा आंख में भर लो पानी,

जो शहीद हुए हैं उनकी,

ज़रा याद करो क़र्बानी।

इसका मतलब है कि ऐ मेरे देश के सभी वासियों उन वीर शहीदों के लिए  जो देश के लिए हंसते-हंसते कुर्बान हो गए आज उनके सम्मान में उनको प्रणाम करो और उनकी कुर्बानी को खाली मत जाने दो।

आज भी देश की चारों सीमाओं पर हमारे वीर सैनिक खड़े हुए हैं हम आजादी का पर्व मनाते रहते हैं लेकिन वे लोग हमारी सुरक्षा के  के लिए हिमालय की चोटी से लेकर समुंदर के पानी तक, आसमान से लेकर जमीन तक हमारी सुरक्षा करते हैं। इसीलिए हम देश में हर त्यौहार अमन और चैन से मना पाते हैं। कम से कम हमें इस दिन तो उनका सम्मान करना ही चाहिए।

वह भी शहीद जिन्होंने हमें आजादी दिलाई उनका हम तहे दिल से सम्मान करते हैं उनको याद करते हैं। वे हमेशा ही हमारे दिलों में बसे रहेंगे। वह आज भी हमारे देश के नौजवानों में आज भी एक नई ऊर्जा का संचार करते हैं हमारे देश के नौजवान उनकी जीवनी को पढ़कर उन से प्रेरणा लेते हैं और अपने लक्ष्य  को प्राप्त करते हैं।

देश की एकता, स्वतंत्रता और अखंडता की रक्षा के लिए हमें भी हर समय तैयार रहना चाहिए। हमें हर उस व्यक्ति का सम्मान करना चाहिए, हर उस मां का सम्मान करना चाहिए जिनके बेटे देश की सेवा में लगे हुए हैं।

“जय हिंद वंदे मातरम”


यह भी पढ़ें –

Asahyog Andolan | असहयोग आन्दोलन

Chipko Andolan चिपको आंदोलन

Jallianwala Bagh Hatyakand in Hindi | जलियांवाला बाग हत्याकांड

भ्रष्टाचार पर निबंध – Essay on Corruption in Hindi

दोस्तों Swatantrata Diwas Par Nibandh आपको कैसा लगा अगर आपको अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूलें और अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके बताएं।



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.