5+ नानी पर कविता – Poem on Nani in Hindi

Poem on Nani in Hindi : दोस्तों आज हमने नानी पर कविता लिखी है। नानी का घर किस को याद नहीं होता बचपन की बहुत सारी यादें नानी माँ के साथ जुड़ी हुई होती है।

अक्सर छोटे विद्यार्थियों से नानी पर कविता लिखने को दी जाती है उनकी सहायता के लिए हमने नानी पर कुछ कविताएँ लिखी है।

Poem on Nani in Hindi

Get Some Latest Poem on Nani in Hindi For School Students.

Best Poem on Nani in Hindi


नानी ओ नानी तू कितनी प्यारी,
सारे जग से तू है न्यारी।

नींद ना आती मुझको तो,
मीठी-मीठी तुम लोरी सुनाती है।

परियों की कहानी सुनाती,
लाड प्यार से मुझको नहलाती।

नये नये कपड़े पहनाती,
सैर सपाटे खूब कराती।

मीठे-मीठे पकवान खिलाती है,
नानी ओ नानी तू कितनी प्यारी।

– नरेंद्र वर्मा

Nani Par Kavita


सुनो सुनो नानी की कहानी,
हर पल करती थी फ़िक्र

हर पल करती थी मेरा ही जिक्र,
ना थी कोई माथे पर शिकन।

वो माँ की भी माँ थी,
वो लाखो में एक नानी थी।

वो रोज नये गीत सुनाती थी,
वो हाथो में लेकर झुला झुलाती थी।

वो मीठे-मीठे लड्डू खिलाती थी,
वो रसदार खीर खिलाती थी।

वो डांट कर प्यार से समझाती थी,
वो मुश्किल में साथ निभाती थी।

वो छुट्टियों में अपने घर बुलाती थी,
वो मीठे-मीठे आम खिलाती थी।

– नरेंद्र वर्मा

Nani Teri Morni Ko Mor Le Gaye Poem in Hindi


नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए,
बाकी जो बचा था काले चोर ले गए।

नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए,
बाकी जो बचा था काले चोर ले गए।

खाके-पीके मोटे हो के चोर बैठे रेल में,
चोरों वाला डब्बा कट के पहुँचा सीधा जेल में।

नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए,
बाकी जो बचा था काले चोर ले गए।

उन चोरों की खूब ख़बर ली मोटे थानेदार ने,
मोरों को भी खूब नचाया जंगल के सरकार ने।

अच्छी नानी, प्यारी नानी, रूसा-रूसी छोड़ दे,
जल्दी से एक पैसा दे दे, तू कंजूसी छोड़ दे।

नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए,
बाकी जो बचा था काले चोर ले गए।

-अज्ञात

Meri Nani Sab Se Pyari Poem


मेरी नानी सब से प्यारी,
कितनी अच्छी कितनी न्यारी।

क्या खूब है सुरत,
क्या खूब है शिरत।

मेरी जिंदगी को चमकाने वाली,
मेरी जीत को रास्ता दिखाने वाली।

क्या बोलू उनके बारे में,
शब्द कम पद जाते है।

बस यही कह सकती हूँ,
मेरी नानी सब से प्यारी।

जो माँ की जगह ले सके,
जो बाप का सहरा दे सके।

वह शख्स है मेरी नानी,
मेरी आन, बान, शान।

और यूँ कह लो मेरी जान है नानी,
कितनी अच्छी कितनी न्यारी,
मेरी नानी सब से प्यारी।

– फातिमा जाहरा

Kitni Bholi Nani Poem in Hindi


मेरी नानी कितनी भोली,
हँसमुख चेहरा मीठी बोली।

हर दम पूछे सबका हाल,
करती हम सब की देखभाल।

खाने को देती मीठे-मीठे आम,
सब बच्चो को करती दुलार।

मेरी नानी सब से प्यारी,
आप जियो हजारों साल।

-अज्ञात


यह भी पढ़ें –

पेड़ पर कविता – Poem on Tree in Hindi

नदी पर कविता – Poem on River in Hindi

प्यार पर कविता – Love Poem in Hindi

दोस्तों Poem on Nani in Hindi आपको कैसी लगी, अगर अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूलें और अगर आपका कोई सवाल है चाहो तो हमें कमेंट करके बताएं। 

अगर आपने भी कोई कविता लिखी है तो हमें नीचे कमेंट में लिखकर बताएं और हम उस कविता को हमारी इस पोस्ट में शामिल कर लेंगे.



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.