Ped ki Atmakatha in Hindi – एक पेड़ की आत्मकथा पर निबंध

दोस्तो आज हमने Ped ki Atmakatha in Hindi लिखा है एक पेड़ की आत्मकथा पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए है। इस लेख के माध्यम से हमने एक Ped ki Atmakatha का वर्णन किया है। पेड़ का जीवन बहुत ही साधारण होता है।

वह अपना पूरा जीवन पृथ्वी के प्राणियों की सेवा में लगा देता है। फिर भी अंत में उसको काट दिया जाता है। लेकिन इतनी सब कठिनाइयों के बाद में भी एक पेड़ फिर से जन्म लेता है और फिर से सभी की सेवा करने लग जाता है।

Essay on Ped ki Atmakatha in Hindi 

मैं एक पेड़ हूं मेरा जन्म एक बीज के रूप में हुआ था मैं कुछ दिनों तक धरती पर यूं ही पड़ा रहा और धूल में भटकता रहा। कुछ दिनों बाद वर्षा का मौसम आया तो बारिश हुई, बारिश के कुछ समय बाद मैं बीज की दीवारों को तोड़कर बाहर निकला और इस दुनिया को देखा मैं उस समय बहुत ही कोमल था किसी के थोड़ा सा जोर से हाथ लगाने पर ही मैं टूट सकता था।

Ped ki Atmakatha in Hindi

जब मैं छोटा था तब छोटी सी आहट से ही मुझे डर लगता था मुझे ऐसा लगता था कि कोई पशु पक्षी या फिर इंसान मुझे तोड़ न ले या फिर अपने पैरों के नीचे कुचल ना दे। लेकिन समय बीतता गया और मैं धीरे-धीरे बड़ा होता गया।

कुछ वर्षों में मैं प्रकृति को भी जानने लगा था कि कब बसंत ऋतु आती है, कब वर्षा ऋतु आती है, कब सर्द ऋतु आती है उस हिसाब से मैं अपने आप को ढाल लेता था।

मैंने अपने जीवन को बचाए रखने के लिए बहुत सी बाधाओं को पार किया है जैसे कि गर्मियों में सूरज की तेज धूप को सहा है तो कभी सर्दियों में बहुत अधिक ठंड को सहा है, कभी तेज तूफान आते है तो कभी ओले गिरते है, कभी कोई जानवर मुझे खाने को दौड़ता है तो कभी इंसान मेरी टहनियों को तोड़ लेता है।

इन सभी बाधाओं से मुझे बहुत तकलीफ हुई लेकिन इन बाधाओं ने मेरे को इतना मजबूत बना दिया है कि अब मैं किसी भी बाधा का सामना कर सकता हूं।

यह भी पढ़ें – Phool ki Atmakatha in Hindi Essay – फूल की आत्मकथा पर निबंध

लेकिन अब मैं बड़ा हो गया हूं मुझे अब किसी जानवर के खाने का भय नहीं रहता है और गर्मी सर्दी भी मैं सहन कर लेता हूं बड़ा होने के कारण अभी इंसान भी मेरी टहनियां नहीं तोड़ पाते है।

अब मेरे ऊपर कुछ पुष्प और फल भी लगने लगे है। मेरे पुष्प भगवान के चरणों में अर्पित किए जाते है जो कि मुझे बहुत अच्छा लगता है।

मेरे फल खाने के लिए बच्चे दौड़े चले आते है वह मेरे कच्चे फल ही खा जाते है। मेरे फल खाकर छोटे बच्चे बहुत खुश होते है यह देखकर मेरे हृदय में को भी सुकून मिलता है की मेरे होने से किसी को तो खुशी मिल रही है। और हम पेड़ों का असली मकसद ही यह रहता है कि हम जीवन भर कुछ ना कुछ इस धरती के प्राणियों को देते रहें।

समय व्यतीत होता रहा और मेरी टहनियां और मजबूत हो गई मेरी टहनियों के मजबूत होते ही बच्चों ने मेरे ऊपर झूले डाल दिए और जोर-जोर से झूलने लगे। बच्चे जब झूल रहे थे तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं था झूले की रस्सियों से मुझे चुभन और दर्द तो हो रहा था लेकिन बच्चों की प्यारी मुस्कान के आगे वह दर्द कुछ नहीं था इसलिए मैं भी अपनी डाल को हिलाकर उन्हें ठंडी हवा दे रहा था।

धीरे-धीरे समय बीत रहा था और मैं पहले से ज्यादा बड़ा और मजबूत होता जा रहा था मेरी शाखाएं दूर-दूर तक फैलने लगी थी। गर्मियों में जब भी कोई राही तेज धूप से बचने के लिए मेरे नीचे आकर बैठता और आराम करता तो मैं उसे ठंडी छांव देता और टहनियों को हिला कर उन्हें हवा देता वह प्रसन्न होकर मुझे खूब दुआएं देते यह देख कर मुझे अच्छा लगता।

यह भी पढ़ें फटी पुस्तक की आत्मकथा | Fati Pustak ki Atmakatha Hindi Essay

कुछ लोग बारिश से बचने के लिए मेरे नीचे आकर खड़े हो जाते हैं मैं भी उनको बारिश से बचाने के लिए अपने पत्तों का ऐसा जाल बनता कि वह छतरी के समान बन जाता जिससे वह लोग बारिश में भीग नहीं पाते थे और बारिश खत्म होने पर भी खुशी-खुशी घर चले जाते थे।

मेरी विशाल शाखाओं पर बहुत सारे पक्षी आते है और उनमें से कुछ पक्षी मेरी शाखाओं पर अपना घोंसला बनाते है यह मुझे अच्छा लगता है कि कोई मेरी शाखाओं पर अपना घर बसा कर अपना जीवन यापन कर रहा है।

कुछ पक्षी उड़ते हुए थक जाते थे तो वे मेरी टहनियों के ऊपर आकर आराम करते हैं और मेरा धन्यवाद करके फिर से अपनी मंजिल की ओर उड़ कर चले जाते। लेकिन जिन पक्षियों ने मेरे ऊपर घर बनाया था वह सुबह दाना चुगने के लिए जाते और शाम को अपने घोंसले में लौट आते है।

वे पक्षी जब दाना चुगने जाते तब मैं उनके घोंसले की रक्षा करता था और उन पक्षियों के साथ मेरा एक अनूठा प्रेम बन गया था मानो ऐसा लग रहा था कि एक हमारा छोटा परिवार बन गया है।

मैं पहले से ज्यादा लोगों को अब फल और फूल दे रहा था लोग खुश होकर उन्हें खा रहे थे और मेरा धन्यवाद भी कर रहे थे।

जैसे-जैसे समय बीत रहा था मैं भी बूढ़ा हो रहा था और मेरी कुछ शाखाएं सूखने भी लगी थी लेकिन उनकी जगह नई शाखाएं भी आ रही थी। मेरा जीवन अच्छा व्यतीत हो रहा था।

लेकिन कुछ मनुष्य मेरी मोटी टहनियों को देखकर मुझे काटने का विचार करने लगे यह देख कर मुझे बहुत ही दु:ख हुआ कि मैंने जीवन भर इंसानों को सब कुछ दिया लेकिन आज ये अपने स्वार्थ के लिए मुझे काटना चाहते है।

कुछ दिन बाद ही कुछ लोग आए और मुझे काटने लगे मुझे बहुत ही पीड़ा हो रही थी लेकिन मैं अपनी पीड़ा जाहिर भी तो नहीं कर सकता था और ना ही कटने से बचने के लिए भाग सकता था।

उन लोगों ने मुझे पूरा काट दिया और फिर मेरी कुछ लकड़ियों को जला दिया और कुछ लकड़ियों से अपने काम की वस्तुएं बना ली। मुझे इस बात का गर्व है कि मैंने जीवन भर सब की सेवा की और मरने के बाद भी मेरी लकड़ी लोगों के काम आयी।

लेकिन मेरे मन में आज भी एक सवाल है हमने जीवन भर इंसानों को खूब फल, फूल, लकड़ियां, धूप से बचाने के लिए छांव और सबसे महत्वपूर्ण हमने इंसानों के जीवन के लिए ऑक्सीजन दी जिससे बिना इंसान जीवित नहीं रह सकते, हमने पृथ्वी को हरा भरा बनाए रखा, पृथ्वी के वातावरण में घुली जहरीली गैसों को भी साफ किया।

यह भी पढ़ें – Nadi ki Atmakatha Essay in Hindi – नदी की आत्मकथा पर निबंध

फिर भी इंसानों ने अपने थोड़े से स्वार्थ के चलते हमें काट दिया। इस बात को लेकर हम पेड़ों को बहुत दुख होता है। लेकिन शायद इंसान की सोच ऐसी ही होती है कि जब तक किसी से कुछ मिलता रहे तब तक तो उसे पूछते हैं और जब मिलना बंद हो जाता है तो उसे ठुकरा देते है।

अंत में मैं यही कहना चाहूंगा कि मेरी सोच गलत थी कि जानवर हमें खा जाएंगे और मैं जानवरों से डरता था लेकिन बड़े होने पर समझ में आया कि हमें जानवरों से नहीं इंसानों से खतरा है।

मैं पेड़ आप सभी से निवेदन करना चाहूंगा कि आप हम पेड़ों को काटे नहीं और ज्यादा से ज्यादा लगाएं जिससे हम इस पृथ्वी को और खुशियों से भर दे।


यह भी पढ़ें –

Essay on Mango in Hindi – आम पर निबंध

हरिथा हरम पर निबंध – Haritha Haram Essay in Hindi

तालाब की आत्मकथा – Talab ki Atmakatha Essay in Hindi

Essay on Importance of Trees in Hindi – पेड़ों का महत्व पर निबंध

किसान की आत्मकथा पर निबंध – Kisan ki Atmakatha

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Ped ki Atmakatha in Hindi आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

46 thoughts on “Ped ki Atmakatha in Hindi – एक पेड़ की आत्मकथा पर निबंध”

  1. Akshay kannan

    Thank u soo much for d lovely atmakhata……I really felt as if tree its self is speaking

  2. Swaroop Biradar

    I like the essay very much. Your website helps millions of students all over the world to learn various and valuable lessons in hindi
    Once again thanks a lot

  3. Bibhash Chandra Bimal

    Good very nicely explained the bio graphy of tree it seems that the tree itself has came alive and speaks this …..Its not just to read this and comment down on it but its about understanding the stuff written there and implement on it ( good things only ) what an inspiring message conved at last.

      1. Loved it, Great thoughts……
        Tommorow Hindi Board Exam is there….
        Your words in essay will definitely help me….
        And Sir/Madam(Admin of web) be frank for any technical help from me…. I am a computer student and familiar with online Networking and website development…
        Thank you so much!

  4. There’s a silly mistake that is in hindi it never comes full stop ” . ” , it comes purnaviram ” । ” please correct it.

    1. We have improved our mistake and we are grateful to you that you made us aware of our mistake, Thank you Sangita

    1. Rashid Shaikh Pahle to App ke protsahan ke liye dhanyawad, or hum suraj ki aatmkatha bhi jald hi likhnge aap aise hi support banye rakhe.

  5. Ped ki aatmkat nibhand bahut hi acha tha mujhe bhi pad ke itna acha laga ki kya bolu mujhe bahut si ayday mili isliya aap ka dhanevad

अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.