Mera Ghar Essay in Hindi – मेरा घर पर निबंध

Mera Ghar Essay in Hindi दोस्तो आज हमने मेरा घर पर निबंध लिखा है मेरा घर पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए है. Mera Ghar Essay in Hindi की सहायता से विद्यार्थी अपनी जानकारी बढ़ा सकते हैं और साथ ही परीक्षाओं में भी इस निबंध का इस्तेमाल कर सकते है.

Mera Ghar Essay in Hindi For Class 2


मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण स्थान जहां पर मेरा जन्म हुआ था वह है मेरा प्यारा घर जो कि ईश्वर की तरफ से मेरे जीवन का सबसे बड़ा तोहफा है. मेरे घर में सभी लोग मिल जुलकर रहते है. मेरे घर के सदस्यों की बात करूं तो मेरे घर में दादा-दादी, माता-पिता, चाचा-चाची, मेरी बहन, एक भाई और चाचा जी के दो छोटे लड़के रहते है.

Mera Ghar Essay in Hindi

Get Some Essay on Mera Payara Ghar in hindi for Student – 150, 250 or 1000 words.

सभी लोग मुझसे बहुत प्यार करते हैं दादा जी के साथ हर शाम में घूमने जाता हूं और वह मुझे एक बगीचे में ले जाकर शिक्षाप्रद कहानियां सुनाते है. हमारे घर में पांच कमरे हैं एक रसोई है, एक मंदिर है और मेहमानों के लिए एक अलग से बड़ा कमरा है. हमारे घर के आंगन में तरह-तरह के फूलों और फलों के पेड़ पौधे लगे हुए है.

मेरे घर के चारों ओर हरियाली छाई हुई है जो कि देखने में बहुत ही सुंदर लगते है और स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है तो ऐसा है मेरा प्यारा घर.

Mera Ghar Essay in Hindi for Class 4


मेरा घर राजस्थान के उदयपुर शहर में स्थित है जिसको झीलों की नगरी के नाम से भी जाना जाता है. मेरा घर शिवपुरी कॉलोनी में स्थित है मेरा घर दो मंजिली इमारत का बना हुआ है जो कि देखने में बहुत ही सुंदर लगता है.

मेरे घर में, मैं अपने दादा-दादी, माता-पिता और एक बहन के साथ रहता हूं. कॉलोनी में हमारा घर सबसे अधिक सुंदर है आने जाने वाले लोग सभी हमारे घर की तारीफ करते हैं और यह सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगता है.

यह भी पढ़ें Mera Gaon Essay in Hindi – मेरा गाँव पर निबंध

मेरे घर के आंगन में एक बगीचा है और उसमें सुंदर फूलों के पेड़ पौधे लगे हुए है. आंगन में एक नीम का पेड़ भी है जिसके नीचे हमने झूला लगाया हुआ है जहां पर हम हर शाम झूला झूलते है. हमारे घर में हमारे लिए 6 कमरे हैं तीन नीचे की मंजिल पर और तीन दूसरी मंजिल पर है. नीचे की मंजिल पर एक गेस्ट रूम भी है जोकि मेहमानों के लिए है.

मेरे घर के सभी कमरे हवादार है जिन्हें हम रोज सफाई करके साफ रखते है. मेरे घर में एक रसोई घर है जहां पर रोज मेरी माता जी हमें खाना बनाकर खिलाती है. मेरे घर के आंगन में एक तरफ हमने एक छोटा मंदिर भी बनवाया है जिसमें हम रोज सुबह शाम पूजा करते है.

मेरा घर मुझे बहुत ही प्यारा लगता है जब भी मैं स्कूल या कहीं और बाहर से थक कर घर आता हूं तो सारी थकान भूल जाता हूं. मेरे घर के आंगन में मैं और मेरी बहन रोज खेलते है मेरे दादाजी आंगन में योगा करते है. मेरे विचार से मेरा घर दुनिया का सबसे सुंदर घर है.

Mera Ghar Essay in Hindi For Class 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12


मेरा घर मुझे बहुत अच्छा लगता है मेरा घर राजस्थान की झुंझुनू जिले में एक गांव में स्थित है. मेरा घर मुझे बहुत प्यारा लगता है वैसे तो घर ईटों पर तो चूना सीमेंट का बना होता है लेकिन जब तक है उस घर में एक दूसरे से प्यार करने वाले सदस्य नहीं रहते हो उसे घर नहीं कहा जा सकता है वह मकान ही कहलाएगा.

इसलिए मुझे मेरा घर बहुत अच्छा लगता है क्योंकि हमारे परिवार के सभी सदस्य मिलजुलकर और बड़े प्यार से रहते है. एक मकान घर तभी बनता है जब वहां रहने वाले सदस्यों में मनमुटाव में हो और वे एक दूसरे में भेदभाव नहीं करते है. एक दूसरे से स्नेह करते हो और मुसीबत में एक साथ खड़े होकर इस मुसीबत का सामना करते हो.

यह भी पढ़ें – मेला पर निबंध – Essay on Mela in Hindi

मेरा घर एक पुश्तैनी घर है जो कि मेरे दादाजी ने बनवाया था. हमारे घर में दादा-दादी, माता-पिता, मैं, मेरा छोटा भाई और छोटी बहन रहते है.

हमारे घर में सात कमरे है जिन्हें हम सभी खुशी खुशी रहते हैं एक रसोई है जहां पर मेरी माता जी रोज खाना बनाती है. मेरे घर में एक मंदिर भी है जहां पर मेरी दादी जी रोज पूजा पूजा पाठ करती रहती है.

हमारे घर के एक और छत पर जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है. हमारे घर के चारों ओर चारदीवारी बनी हुई है. हमारे घर में मेहमानों के बैठने के लिए एक अलग से बड़े कमरे की व्यवस्था की गई है जब भी हमारे यहां मेहमान आते हैं तो वह वहीं पर रुकते है. हमारे घर में एक छोटा पुस्तकालय भी बना हुआ है

जहां पर हम लोग जाकर पढ़ाई करते हैं और हमारे दादा जी भी वहां पर पुस्तके पढ़ते रहते हैं जो कि हमें रोज नई नई शिक्षाप्रद कहानियां सुनाते है और साथ ही अपने जीवन की मजेदार घटनाओं के बारे में भी बताते हैं जिनको सुनकर हम बहुत ही खुश होते हैं

हमारे घर में स्नान के लिए दो बाथरूम बने हुए है और दो शौचालय बने हुए है. हमारे घर के आगे एक छोटा सा बगीचा है जहां पर दुब लगाई हुई है. हमारे घर के पीछे भी बहुत जगह है जिसमें हमने तरह तरह के फलों और फूलों के पेड़ पौधे लगा रखे है. मुझे उनमें से आम और अमरुद के पेड़ बहुत पसंद है क्योंकि हर साल हमारे यहां आम और अमरुद लगते हैं और वह मैं बड़े चाव से खाता हूं.

फूलों की बात करें तो हमारे बगीचे में गुलाब गेंदा सूरजमुखी, चमेली और अन्य सुगंधित पौधे लगे हुए है जिससे हमारे घर का वातावरण सुगंधित और स्वच्छ बना रहता है. घर में पानी की जरूरत को पूरा करने के लिए घर की छत पर दो पानी की टंकी रखी हुई है और साथ ही घर के पीछे एक बड़ी पानी की टंकी बनी हुई है.

हर साल जब भी दीपावली या होली आती है तो हम हमारे घर को रंग बिरंगे रंगों में रंग होते हैं जिससे हमारा घर देखने में बहुत सुंदर लगता है और साथ ही हमारे घर की उम्र भी बढ़ जाती है. हमारा घर बड़ा होने के कारण छत पर बहुत सी जगह होती है. मकर सक्रांति त्यौहार आने पर मैं मेरे छोटे भाई बहन और मेरे दोस्त वहां से पतंग उड़ाते है.

मेरा घर गांव में होने के कारण यहां का वातावरण शहरों के मुकाबले बहुत ही स्वच्छ है यहां पर शहरों की तरह अत्यधिक शोर-शराबा भी नहीं होता है जिसके कारण हम आराम से अपने घर में रह पाते है. गांव में एक और पहाड़ है और पास ही से एक छोटी नदी भी रहती है जिसके कारण हमारे यहां कभी जल की कमी नहीं होती और साथ ही यहां पर हरियाली भी बनी रहती है.

हमारे घर के पास ही बाजार है जहां से हम खाने पीने की वस्तुएं लेकर आते है. हमारे घर से कुछ ही दूरी पर डाकघर, बैंक और हॉस्पिटल की सुविधा भी उपलब्ध है. हमारे घर में पेड़ पौधे और हरियाली अधिक होने के कारण पक्षी वहां पर पूरे दिन चह-चाते रहते हैं जिनकी आवाज बहुत ही मधुर होती है.

यह भी पढ़ें – पुस्तक मेला पर निबंध – Pustak Mela Essay in Hindi

हमारे घर में हमने एक गाय और कुछ बकरियां भी पाल रखी है जिनको हम रोज खाना खिलाते है और छोटे बकरी के बच्चों से रोज खेलते है. गाय का दूध पीकर हम हष्ट-पुष्ट और स्वस्थ बने रहते है. मेरे घर से मेरा विद्यालय अधिक दूरी पर नहीं है जिसके कारण मुझे विद्यालय आने जाने में कोई परेशानी नहीं होती है.

कुछ दिनों पहले मेरे पिताजी घर में एक नया सदस्य लेकर आए वह था हमारा प्यारा कुत्ता जो कि देखने में बहुत ही मासूम और बहुत प्यारा था कुछ ही दिनों में उसके साथ हमारी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई और हम सुबह शाम उसके साथ खेलते है. जब हम स्कूल से आते हैं तो वह भो भो की आवाज से हमें को पुकारता है और हमारे आगे पीछे घूमता रहता है. जब भी दादा जी बाजार में जाते हैं तो वह उनके साथ जाता है और उन को सुरक्षा प्रदान करता है

मेरे घर के बाहर गंदे पानी की निकासी के लिए नालियां बनी हुई है जिससे गंदा पानी गलियों में नहीं फैलता है और हमारे घर का वातावरण स्वस्थ रहता है. बारिश के पानी को इकट्ठा करने के लिए हमारे घर में गड्ढा बना हुआ है जिसमें जब भी बारिश होती है तो बारिश का पानी इकट्ठा हो जाता है और वह सीधा धरती के अंदर चला जाता है ऐसा हमारे गांव के सभी घरों में है जिसके कारण हमारे गांव का भू-जल स्तर गिरता नहीं है.

मैं जब भी घर से बाहर कहीं चला जाता हूं तो होटलों या धर्मशालाओं में रहता हूं जहां पर मुझे वह सुकून नहीं मिलता है जो अपने घर पर मिलता है और वहां पर नींद भी नहीं आती है जो मुझे मेरे घर पर आनंद के साथ आती है.

मेरे ख्याल से मेरा घर धरती पर जन्नत के समान है जहां पर अपनों का प्यार मिलता है मां का दुलार मिलता है जो कि शायद किसी को स्वर्ग में भी नसीब नहीं होता होगा. जीवन को जीने के लिए घर में प्यार होना बहुत ही जरूरी है तो ऐसा है मेरा घर.

यह भी पढ़ें –

पुस्तक मेला पर निबंध – Pustak Mela Essay in Hindi

मेला पर निबंध – Essay on Mela in Hindi

Mera Gaon Essay in Hindi – मेरा गाँव पर निबंध

Mera Priya Mitra Essay in Hindi – मेरा प्रिय मित्र पर निबंध

पिता पर निबंध – My Father Essay in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Mera Ghar Essay in Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.