तोते पर निबंध – Essay on Parrot in Hindi

Essay on Parrot in Hindi आज हम तोते पर निबंध हिंदी में लिखने वाले हैं. यह निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए है. इस निबंध की सहायता से हम तोते पक्षी के बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे. इस निबंध की सहायता से तोते बारे में अपनी परीक्षा में लिख सकेंगे.

Essay on Parrot in Hindi


तोता एक मध्यम आकार का पक्षी है यह आमतौर पर गर्म प्रदेशों में ही पाया जाता है. यह देखने में बहुत ही सुंदर पक्षी होता है. इसलिए इस ज्यादातर घरों में पाल कर रखा जाता है. हमारे भारत देश में तोता हरे रंग का होता है अन्य देशों में यह सफेद, नीले, सतरंगी, पीला, लाल रंगों में भी पाया जाता है. इसकी लंबाई 10 से 12 इंच होती है.

Essay on Parrot in Hindi

Get Some Essay on Essay on Parrot in Hindi

इसके गले के चारों तरफ काले रंग की रिंग होती है जिसे हिंदी भाषा में “कंठी” भी कहते है. इसकी आंखें काली और चमकदार होती है. इसकी आंखों के चारों ओर भूरे रंग की रिंग बनी हुई होती है. इसका सर इसके शरीर के मुकाबले छोटा होता है. तोते की चोंच लाल रंग की होती है जो कि अन्य पक्षियों की तरह सीधी नहीं होती है इसकी चोंच का ऊपरी भाग मुड़ा हुआ होता है.

Parrot के पंजे छोटे होते है लेकिन उतने ही नुकीले होते है इसकी पंजों की पकड़ बहुत मजबूत होती है इसीलिए यह पक्षियों में मात्र एक ऐसा पक्षी है जो अपने पंजों में खाना पकड़कर खा सकता है. इसके पंखों का आकार छोटा होता है लेकिन यह बहुत तेज गति से उड़ सकता है.

यह भी पढ़ें – Essay on Peacock in Hindi – भारत के राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध

तोता आम तौर पर झुंड में रहना ही पसंद करता है यह जब भी खाने की तलाश में जाता है तब 10 से 15 तोतो के झुंड में ही जाता है. तोता मुख्य रूप से भोजन में सब्जियां और फल बीज आदि खाने में पसंद करता है. तोता एक शाकाहारी पक्षी होता है.

इसकी आवाज आने बच्चों की तुलना में कर्कश भरी होती है जिसको 1 किलोमीटर दूर से ही सुना जा सकता है.
तोता एक बुद्धिमान पक्षी है इसीलिए इसको सिखाए जाने पर यह कोई भी भाषा आसानी से बोल सकता है.
अगर तोते को इंसानों के बीच कुछ दिनों के लिए छोड़ दिया जाए तो यह उनकी भाषा के कुछ शब्द सीख लेता है और उनकी नकल करने लगता है.

भारत में अक्सर तोते को राम-राम, सीताराम आदि शब्द बोलने सिखाए जाते है. इसको घरों में पिंजरे में रखा जाता है जो की बहुत गलत है लेकिन जब भी कोई घर में आता है तब यह उसका स्वागत राम-राम या सीताराम बोल कर करता है.

तोता इतना समझदार होता है कि अगर तोते को इंसानों के बीच अधिक समय तक रखा जाए तो यह उस घर के लोगों की नकल भी उतार सकता है.

Parrot की दुनिया भर में अब तक 350 से भी ज्यादा प्रजातियां खोजी जा चुकी है. यह मात्र एक ऐसा पक्षी है जिसकी इतनी अधिक प्रजातियां पाई जाती है. तोता वृक्षों के तने को गोल आकार में काट कर उसमें अपना घोंसला बनाता है जिसको हिंदी भाषा में “कोटर” भी कहते है.

यह जंगलों, खेतों, गांव, शहरों सभी जगह पर पाया जाता है. तोता एक दिन में खाने की तलाश में 1000 किलोमीटर से ज्यादा भी उड़ सकता है. यह ऊंची और लहरदार उड़ान भरता है.

यह भी पढ़ें – तीतर पक्षी पर निबंध – Essay on Teetar Bird in Hindi

इस पक्षी की खास बात यह है कि इसमें नर और मादा को पहचानना बहुत मुश्किल होता है इसलिए इनका ब्लड टेस्ट करके ही नर और मादा का पता लगाया जाता है. तोते को अक्सर नीम, अमरूद और जामुन के पेड़ पर देखा जा सकता है.

Parrot का मुख्य निवास स्थान ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड है यहां पर यह सतरंगी रंगों में पाया जाता है जिस को पकड़कर अन्य देशों में भेजा जाता है. तोते को इंग्लिश भाषा में “Parrot” कहते है और हिंदी भाषा में “तोता” कहते है इसका वैज्ञानिक नाम “Psittaciformes” है.

मादा तोता एक साल में 10 से 15 अंडे देता है यह विश्व में किसी भी रंग का क्यों ना हो हमेशा सफेद रंग के ही अंडे देता है. तोते का भजन 500 ग्राम से लेकर 1 किलो तक हो सकता है लेकिन कुछ तोतो का वजन बिल्लियों के बराबर भी होता है.


यह भी पढ़ें –

ऊँट पर निबंध – Essay on Camel in Hindi

तीतर पक्षी पर निबंध – Essay on Teetar Bird in Hindi

Birds Name in Hindi and English पक्षियों के नाम List of Birds

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Essay on Parrot in Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.