Mera Gaon Essay in Hindi – मेरा गाँव पर निबंध

Mera Gaon Essay in Hindi  दोस्तो आज हमने मेरा गाँव पर निबंध लिखा है Mera Gaon पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए है. इस निबंध की सहायता से विद्यार्थी अपनी जानकारी बढ़ा सकते हैं और साथ ही  परीक्षाओं में भी इस निबंध का इस्तेमाल कर सकते है.

Mera Gaon Essay in Hindi

Get Some Mera Gaon Essay in Hindi for School or College Student – 150, 250, 500 or 1000 words.

(1) Mera Gaon Essay in Hindi 150 Words

भारत गाँवो का देश है अगर गाँवो को भारत की आत्मा कहीं जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी क्योंकि आज भी भारत की जनसंख्या का लगभग 65% हिस्सा गाँवो में ही निवास करता है. गांव भारत के विकास में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं क्योंकि गांव में ही हर प्रकार की फसलों का उत्पादन होता है और वही से शहरों में सप्लाई किया जाता है

इसलिए कहीं ना कहीं शहर गांव पर ही निर्भर हैं अगर भारत में गांव नहीं होगे तो खाने-पीने के लाले पड़ सकते है गांव के लोग बहुत ही खुशमिजाज और मिलनसार होते है. गांव के लोग जल्दी सो जाते हैं और सुबह जल्दी उठते है और शहरी लोगों की तुलना में बहुत ज्यादा परिश्रम करते है. गाँवो के ज्यादातर लोग कृषि कार्य ही करते हैं

और अपनी आजीविका भी इसी से चलाते है. यहां पर प्रत्येक घर में पशु पालन किया जाता है. गांव के कुछ लोग अपनी आजीविका चलाने के लिए पशुपालन के अलावा मुर्गी पालन, मधुमक्खी पालन, कुटीर उद्योग आदि पर निर्भर होते है.

(2) Mera Gaon Essay in Hindi 250 Words

शहरों की भीड़ भाड़ वाली जिंदगी से दूर भारत में गाँवो में जीवन बहुत ही सरल और सीधा साधा है. भारत के गाँवो में ज्यादातर किसान लोग ही निवास करते है क्योंकि आज भी भारत में गाँवो में आजीविका का मुख्य साधन कृषि ही है इसीलिए भारत को कृषि प्रधान देश भी कहा जाता है. भारत की जनसंख्या का आगे से भी ज्यादा हिस्सा आज भी गांव में ही निवास करता है इसलिए भारत को गाँवो का देश भी कहा जाता है.

गांव के लोग आधुनिक सुविधाओं से दूर बहुत ही साधारण जीवन यापन करते है. गांव में रहने वाले लोग अपनी आजीविका चलाने के लिए मुख्यतः कृषि पर निर्भर रहते हैं और साथ ही मुर्गी पालन, पशु पालन, मधुमक्खी पालन, मछली पालन आदि भी करते है.

गांव के लोग साधारण भोजन करते हैं वे भोजन में दूध दही और ताजा फल सब्जियों का सेवन करते है जिससे गांव के लोग हष्ट-पुष्ट रहते हैं और कम बीमार पड़ते है. गांव के लोग गरीबी रेखा से नीचे ही जीवन यापन करते है. यहां पर शहरों की तुलना में ज्यादा सुविधाएं नहीं होती है. यहां का वातावरण ठंडा और प्रदूषण मुक्त होता है यहां की हवा में ताजगी होती है क्योंकि यहां चारों ओर खेत खलियान और पेड़ पौधे होते है.

गांव के ज्यादातर लोग अनपढ़ होते हैं लेकिन जैसे-जैसे भारत विकास कर रहा है गांव में भी अब विद्यालय खुलने लगे हैं यहां पर भी शिक्षा का स्तर ऊपर उठने लगा है लेकिन भारत में जिस तेजी से गांव का विकास होना था उस तेजी से गांव का विकास नहीं हुआ है.

(3) Mera Gaon Essay in Hindi 500 Words

भारत को गाँवो का देश कहा जाता है सच भी है क्योंकि भारत की कुल आबादी का दो तिहाई हिस्सा गाँवो में ही निवास करता है. गांव भारत देश की रीड की हड्डी है क्योंकि भारत में ज्यादातर लोग कृषि पर ही निर्भर हैं और कृषि गांव में ही होती है इसलिए भारत के विकास में गांव महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है. शहरों की तुलना में यहां के लोग बिना किसी उतावलेपन के और बिना किसी अतिरिक्त चिंता के साधारण जीवन व्यतीत करते है

किसी ने सच ही कहा है कि अगर भारत देश को सही मायनों में पहचानना है तो गाँवो में जाकर देखना होगा क्योंकि आज भी भारत के गाँवो में पुरानी संस्कृति जिंदा है आज भी वहां पुराने विचारों को अपनाया जाता है और उन्हीं पुराने ढंग से सांस्कृतिक आयोजन किए जाते हैं हर त्यौहार को मिलजुल कर मनाया जाता है.

मेरा गांव बुगाला राजस्थान राज्य के झुंझुनू जिले से करीब 30 किलोमीटर दूर स्थित है. यहां पर सभी जाति और धर्म के लोग मिल जुल कर रहते है. हमारे गांव में करीब 300 से ज्यादा घर है अब ज्यादातर लोग खेतों में ही रहते है. यहां पर आज भी पुराने जमाने की तरह किसी के यहां विवाह हो या फिर अन्य कोई आयोजन हो तब सभी लोग वहां पर कार्य करवाने के लिए एकजुट हो जाते है उस समय ऐसा लगता है मानो कोई बहुत बड़ा है त्योहार मनाया जा रहा है.

हमारे गांव में शिक्षा को लेकर भी विकास हुआ है यहां पर सरकार द्वारा सीनियर सेकेंडरी तक सरकारी स्कूल भी बनवाई गई है. इस स्कूल में गांव के और आसपास की ढाणियों के बच्चे पढ़ने आते है. हमारे गांव में सभी मुख्य रास्तों पर सरकार द्वारा सड़क बनवा दी गई है जिस से शहर जाने में अब असुविधा नहीं होती है. हमारे गांव में आयुर्वेदिक अस्पताल भी खोला गया है जिसमें गांव के लोग अपना इलाज करवाते है

हमारे गांव की एक अलग पंचायत की है जिसमें गांव के आपस के झगड़े पंचायत में ही सुलझा लिए जाते है. छोटे बच्चों को पढ़ाने के लिए सरकार द्वारा सर्व शिक्षा अभियान के तहत आंगनवाड़ी भी बनवाई गई है. हमारे गांव में एक छोटा पोस्ट ऑफिस भी है. हमारे गांव के ज्यादातर लोग कृषि पर ही निर्भर है और यही उनकी आजीविका का साधन है यहां पर गेहूं मक्का मूंगफली बाजरा आदि की फसल मुख्यतः बोई जाती हैं

सिंचाई के लिए यहां कुछ खेतों में ट्यूबवेल की सुविधा है लेकिन ज्यादातर खेत मानसून की बारिश पर ही निर्भर होते हैं इसलिए आप पर कभी अच्छी फसल होती है तो कभी नहीं भी होती है. यहां पर ज्यादातर लोग गरीब ही है.

हमारे गांव के कुछ लोग आजीविका के लिए लघु उद्योग चलाते हैं और कुछ लोग मुर्गीपालन, पशुपालन करके भी अपनी आजीविका चलाते है. यहां पर संचार साधनों के रूप में मोबाइल और टेलीफोन की सुविधा भी उपलब्ध है यहां पर अब बिजली की सुविधा भी उपलब्ध करा दी गई है जिससे अब पूरे गांव में लगभग पूरे दिन बिजली रहती है

हमारे गांव में चारों और हरियाली है यहां के सभी लोग हंसमुख और मिलनसार है. हमारा गांव सही मायनों में एक आदर्श गांव है.

(4) Mera Gaon Essay in Hindi 1000 Words

भारत गाँवो का देश है यहां के ज्यादातर लोग कृषि पर ही निर्भर है भारत को गाँवो का देश इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां की ज्यादातर जनसंख्या गांव में ही निवास करती है गांव को भारत की रीड की हड्डी कहे तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी क्योंकि गाँवो से ही भारत के शहरों में खाने पीने की वस्तुएं उपलब्ध होती है और भारत की जीडीपी का एक हिस्सा कृषि क्षेत्र से ही आता है

इसलिए भारत देश के गांव भारत के आर्थिक विकास में भी सहयोग करते है. पूरी दुनिया में भारत ही एकमात्र ऐसा देश है जहां पर सबसे ज्यादा जनसंख्या गांव में निवास करती है.

भारत के गाँवो के विकास के लिए सरकार ने बहुत ध्यान दिया है और इसके लिए कई योजनाएं भी बनाई है. इन योजनाओं का कुछ हद तक गाँवो के विकास पर असर भी दिखाई दिया है लेकिन अभी तक गाँवो का जिस तरह से विकास होना चाहिए था वैसा विकास अभी नहीं हो पाया है.

हाल ही की बात करें तो सरकारी रिपोर्ट के अनुसार भारत के ज्यादातर गांव को सड़कों से जोड़ दिया गया है जिससे वहां पर आवागमन की सुविधा उपलब्ध हो गई है. अधिकतर गांव में बिजली पहुंचा दी गई है.

मेरा गांव उत्तर प्रदेश राज्य में गंगा नदी के समीप स्थित है हमारे गांव के ज्यादातर लोग कृषि पर ही निर्भर है यहां के लोग या तो कम पढ़े लिखे हैं या फिर अनपढ़ हैं जिससे वह किसी क्षेत्र में आई नई तकनीक और क्रांति का पूरा फायदा नहीं उठा पा रहे है. हमारे गांव में कृषि करने के लिए खेतों में नहरों, कुओं, तालाबो और ट्यूबवेल के माध्यम से सिंचाई की जाती है.

हमारे गांव के कुछ लोग अपनी आजीविका चलाने के लिए कुटीर उद्योग भी चलाते हैं कुछ लोग पशु पालन करके उनका दूध और खाद बेचकर अपना गुजारा करते है. हमारे गांव में मुख्यत: पशु पालन मधुमक्खी पालन मछली पालन मुर्गी पालन कृषि और अन्य लघु उद्योगों के माध्यम से आजीविका चलाई जाती है.

हमारे गांव के मुख्य मार्गो पर अब पक्की सड़के बना दी गई है जिससे अब हम रोज ताजा फल-सब्जियां शहरों की सब्जी मंडियों में उचित दामों पर बेच कर आ सकते है. सड़कों के कारण आवागमन भी काफी सुलभ हो गया है और अब तो कुछ विदेशी पर्यटक भी हमारे गांव में घूमने के लिए आने लगे है.

हमारे गांव के विकास कार्यों को देखने के लिए एक पंचायत भी बनाई गई है जो कि गांव में विकास करवाती है और साथ ही अगर गांव में कोई वाद विवाद होता है तो उसका निपटारा भी करवाती है. हमारे गांव में शिक्षा के क्षेत्र में भी बहुत काम हुआ है शिक्षा के लिए अब सीनियर सेकेंडरी तक का सरकारी स्कूल भी खुल गया है जिससे हमारे गांव के बच्चे भी शिक्षित हो रहे है.

हमारे गांव के एक और एक पहाड़ी है जहां पर बहुत सी जड़ी बूटियां पाई जाती हैं और साथ ही बरसात के दिनों में पहाड़ी पर इतनी हरियाली छा जाती है कि यह सब का मन मोह लेती है. इस पहाड़ी से एक झरना हमेशा बहता रहता है जिससे हमारे गांव में पानी की कमी नहीं होती है.

हमारे गांव में पत्राचार के लिए एक छोटा पोस्ट ऑफिस में बना दिया गया है. हमारे गांव के लोग रात को जल्दी सो जाते हैं और सुबह जल्दी उठकर खेतों में काम करने चले जाते हैं और पूरे दिन कठिन परिश्रम करते है. हमारे गांव का वातावरण शहरों की तुलना में बहुत ही ठंडा है और प्रदूषण रहित है जिससे यहां के लोगों को गंभीर बीमारियां नहीं होती है.

यहां के लोग बहुत ही सीधे-साधे और साधारण तरीके से जीवन व्यतीत करने वाले होते है यहां पर सभी लोग मिल जुल कर रहते हैं और एक दूसरे की मुसीबत में मदद करते है. अगर गांव पर कोई भी विपदा आती है तो सभी लोग मिल जुलकर उसका एक साथ सामना करते है.

हमारे गांव में सभी जाति और धर्म के लोग रहते हैं यहां पर लगभग 300 घर है अब ज्यादातर लोगों ने पक्के मकान बना लिए है. गांव में अब सरकार द्वारा ग्रामीण बैंक भी खोल दिया गया है जिससे सभी लोग अपनी पूंजी वहां पर जमा कराते है और सभी बैंकिंग सुविधाओं का लाभ भी उठाते है.

हमारे गांव में साफ सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है यहां पर किसी भी प्रकार की गंदगी नहीं पाई जाती हैं और साथ ही हमारे गांव में पर्यावरण को बचाने के लिए हर साल मॉनसून में पंचायत द्वारा पौधारोपण करवाया जाता है जिससे हमारे गांव के चारों ओर हरियाली छाई रहती है.

सरकार ने हमारे गांव में सुविधाओं का विस्तार करते हुए एक छोटा सरकारी अस्पताल भी खुलवाया है जिससे अब हमें इलाज करवाने के लिए शहर नहीं जाना पड़ता है. हमारे गांव में छोटे बच्चों की शिक्षा के लिए सर्व शिक्षा अभियान के तहत आंगनबाड़ी भी खोली गई है.

हमारे गांव को स्वच्छ रखने के लिए स्वस्थ अभियान के तहत अब सभी मुख्य स्थानों और घरों में शौचालयों का निर्माण करवा दिया गया है जिससे गांव के लोग बाहर शौच करने नहीं जाते है. गांव से शहर जाने के लिए सुबह और शाम सरकारी बसें चलाई गई है जिससे अब शहर में कोई भी काम होने पर हम सरकारी बसों द्वारा जल्दी शहर पहुंच जाते है.

पूरे गांव में पानी की सप्लाई के लिए एक बड़ी टंकी बनाई गई है जहां से सुबह शाम पूरे गांव को पानी सप्लाई किया जाता है. हमारे गांव में खेलने के लिए एक बहुत बड़ा मैदान है जहां पर हम सुबह शाम कबड्डी क्रिकेट खो खो जैसे खेल खेलते हैं. हमारा गांव एक आदर्श गांव के रूप में जाना जाता है

गांव के विकास के लिए सरकार ने बहुत काम किया है और योजनाएं भी बनाई है लेकिन घोटाले और भ्रष्टाचार के कारण इन योजनाओं पर पूरी तरह से अमल नहीं हो पाया है जिससे गांव का विकास जितनी तेजी से होना था उससे जिससे नहीं हुआ है. भारत में गांव का विकास करना बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि जब तक गांव का विकास नहीं होगा तब तक भारत कभी भी विकसित देश नहीं बन सकता है. इसलिए सरकार को गांव के विकास के लिए विशेष ध्यान देना चाहिए.

यह भी पढ़ें –

पुस्तक मेला पर निबंध – Pustak Mela Essay in Hindi

रेल यात्रा पर निबंध – Rail Yatra Essay in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Essay on Mela in Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.