क्रिकेट पर निबंध – Essay on Cricket in Hindi

Essay on Cricket in Hindi : आज हम क्रिकेट पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, & 12 के विद्यार्थियों के लिए है. क्रिकेट भारत का सबसे लोकप्रिय खेल है.

इस खेल के प्रति सभी लोगों को बहुत उत्साह रहता है इसीलिए अक्सर परीक्षाओं में विद्यार्थियों को क्रिकेट पर निबंध लिखने के लिए दिया जाता है.

Essay on Cricket in Hindi

Get Some Essay on Cricket in Hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11 & 12 Students.

Best Essay on Cricket in Hindi 100 Words


खेल हमारे जीवन का मुख्य आधार है मेरा प्रिय खेल क्रिकेट है, क्रिकेट से मेरा मनोरंजन भी होता है और मेरा स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है। जब क्रिकेट खेल की शुरुआत हुई थी तभी से “शाही खेल” माना जाता था।

क्रिकेट दो खिलाड़ियों के समूहों के बीच में खेला जाता है दोनों टीम में 11-11 खिलाड़ी होते है। यह खेल खुले मैदान में बेट और गेंद की सहायता से खेला जाता है।

क्रिकेट में से कई प्रकार होते हैं जैसे वन डे, टेस्ट मैच और वर्तमान में तो टी-20 अधिक प्रचलित है। इस खेल में जो भी टीम सबसे अधिक रन बनाती है उसे विजयी घोषित कर दिया जाता है।

वर्तमान में क्रिकेट सबसे अधिक भारत, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, अफ्रीका इत्यादि देशों में लोकप्रिय खेल है।

Latest Cricket Par Nibandh 400 Words


भूमिका –

खेलों से ही हमारा जीवन प्रारंभ होता है यह हमारे मस्तिष्क और शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत आवश्यक है। क्रिकेट खेलना मुझे बहुत पसंद है।

क्रिकेट खेल का जन्म ब्रिटेन में हुआ था, भारत में इस खेल की शुरुआत इंग्लैंड से रहने वाले आए निवासियों ने की थी। शुरुआती दिनों में क्रिकेट खेल केवल राजा महाराजाओं और इंग्लैंड वासियों द्वारा ही भारत में खेला जाता था लेकिन स्वतंत्रता के बाद इसे सभी लोग खेलने लगे।

आजकल छोटे बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी क्रिकेट खेल के दीवाने है खासकर जब भारत और पाकिस्तान का मैच होता है तब तो लोगों के उत्साह की कोई सीमा ही नहीं रहती है।

क्रिकेट खेल –

क्रिकेट का खेल बहुत ही रोमांचक और उत्साहवर्धक होता है इस खेल को लेकर खिलाड़ियों में ही नहीं खेल देखने वाले दर्शकों में भी बहुत अधिक उत्साह होता है। यह खेल दो 11-11 खिलाड़ियों की टीम के मध्य खेला जाता है।

यह खेल खुले मैदान में खेला जाता है जिसका व्यास 130–150 मी॰ का होता है मैदान के बीचो बीच खेलने के लिए पिच होती है जिसके दोनों छोर पर तीन विकेट लगाए जाते है, दोनों ओर के विकेटों के मध्य की दूरी 22 गज होती है।

जो भी टीम बैटिंग करती है वह तब तक बल्लेबाजी करती है जब तक की संपूर्ण ओवर खत्म ना हो जाए या फिर उनकी टीम के 10 खिलाड़ी आउट हो जाए।

क्रिकेट खेलते समय जो भी टीम सबसे ज्यादा रन बनाती है वह विजयी मानी जाती है। खेल के मैदान में दो अंपायर रहते है और एक अन्य अंपायर जो मैदान के बाहर विशेष परिस्थितियों में निर्णय लेता है उसे थर्ड अंपायर कहते है।

यह खेल कई प्रकार से खेला जाता है जैसे कि वन-डे, T20, टेस्ट मैच इत्यादि तरह से खेला जाता है। कुछ परिस्थितियों में मैच को रद्द भी किया जा सकता है जैसे कि बारिश का आना रोशनी कम होना या किसी अप्रत्याशित घटना घटित होने पर मैच रद्द किया जा सकता है।

निष्कर्ष –

क्रिकेट का खेल बहुत ही सुंदर और अच्छा खेल है इस खेल को सभी खेलना और देखना पसंद करते है। पहले सिर्फ कुछ चुनिंदा देश के लोग ही इसे खेलते थे।

लेकिन आजकल सभी लोग इस खेल को खेलना पसंद करते है इसीलिए भारत की प्रत्येक गलियों में बच्चे क्रिकेट खेलते मिल जाएंगे। हमारे देश के महान खिलाड़ी सचिन ने इस खेल को असीम ऊंचाइयों तक पहुंचाया है। हमें इसी तरह सभी खेल खेलते रहना चाहिए और स्वस्थ रहना चाहिए।

Full Essay on Cricket in Hindi 1200 words


प्रस्तावना –

हमारे भारत देश में लगभग सभी प्रकार के खेल खेले जाते है लेकिन इन सब में सबसे लोकप्रिय क्रिकेट है जिसको छोटे बच्चे से लेकर बड़े बूढ़ों तक पसंद किया जाता है। जब भी कोई बड़ा क्रिकेट मैच होता है तो बड़ी-बड़ी टीवी स्क्रीन पर हजारों लोगों द्वारा मैच देखा जाता है।

यह इकलौता खेल है जिसके इतने ज्यादा प्रशंसक है। क्रिकेट खेल मुख्य तौर से भारत, श्रीलंका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, जिंबाब्वे, बांग्लादेश, अफगानिस्तान, आयरलैंड, पाकिस्तान और वेस्टइंडीज देशों में बहुतायत में खेला जाता है।

क्रिकेट खेल का इतिहास –

क्रिकेट खेल की शुरुआत ग्रेट ब्रिटेन देश से हुई थी सबसे पहला क्रिकेट मैच 18 जून 1744 में केंट और लंदन के बीच खेला गया था। ब्रिटिश साम्राज्य के विस्तार के साथ ही यह खेल बाहरी देशों में भी खेला जाने लगा फिर 19वीं शताब्दी में पहला अंतरराष्ट्रीय मैच आईसीसी क्रिकेट क्लब द्वारा 10-10 सदस्यों की दो टीम के बीच करवाया गया था।

भारत की पहली क्रिकेट संस्था का नाम “कलकता क्रिकेट क्लब” था। सन 1797 में इस खेल को मुंबई में खेला जाने लगा था

और सन 1878 में एक प्रोफेसर ने भारतीय क्रिकेट क्लब की स्थापना “प्रेसिडेंसी कॉलेज क्रिकेट क्लब” के नाम से की थी। हमारे भारत देश ने 1983 और सन 2011 में वर्ल्ड कप में जीत हासिल की है।

क्रिकेट खेलने की प्रक्रिया –

क्रिकेट का खेल दो 11-11 खिलाड़ियों की टीम के मध्य खेला जाता है हर टीम में एक या दो एक्स्ट्रा खिलाड़ी भी रखे जाते हैं ताकि किसी खिलाड़ी को अगर चोट लग जाती है तो उनकी जगह पर है एक्स्ट्रा खिलाड़ी को खिलाया जा सकता है।

खेल का निर्णय करने के लिए दो निर्णायक होते है जिन्हें अंपायर भी कहा जाता है और एक अन्य थर्ड अंपायर होता है जो कि विशेष परिस्थितियों में वीडियो देखकर निर्णय करता है।

खेल की शुरुआत करने के लिए एक अंपायर द्वारा टॉस ( सिक्का उछालना ) किया जाता है जो भी टीम टॉस जीत की है वह स्वयं निर्णय करती है कि उसे बैटिंग करनी है या फिर बॉलिंग। इसके बाद मैच प्रारंभ हो जाता है।

बल्लेबाजी करने वाली टीम के 2 सदस्य पिच के दोनों ओर खड़े हो जाते है और गेंदबाजी करने वाली टीम के सभी सदस्य मैदान में गेंद रोकने के लिए खड़े हो जाते है फिर गेंदबाजी करने वाली टीम में से एक खिलाड़ी गेंद को बल्लेबाज की तरफ फेकता है।

बल्लेबाज बल्ले से गेंद को स्ट्राइक करके रन लेता है या फिर चौका या छक्का मार देता है। यह करम बारी-बारी दोनों टीम दौराहती है एक टीम तब तक खेलती है जब तक कि सभी ओवर की समाप्ति ना हो जाए या फिर टीम के सभी बल्लेबाज आउट ना हो जाए, जो भी टीम अधिक रन बनाती है वह विजयी घोषित करती जाती है।

क्रिकेट खेल के प्रकार –

क्रिकेट खेल के कई प्रकार है यह खेल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत अधिक लोकप्रिय हैं टेस्ट मैच एकदिवसीय मैच तो होते ही है लेकिन कुछ वर्षों पहले टी-20 में हुई प्रारंभ कर दिया गया है।

इसके साथ ही हमारे देश में विभिन्न प्रकार की ट्रॉफेयो का आयोजन साल भर होता रहता है। भारत में रणजी ट्रॉफी, रानी झांसी ट्रॉफी, बजी ट्रॉफी, ईरानी ट्रॉफी, दिलीप ट्रॉफी, शीश महल ट्रॉफी और अब्दुल्ला गोल्ड कप के नाम से क्रिकेट की कई प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है।

क्रिकेट खेल के मुख्य नियम (About Cricket in Hindi)-

(1) प्रत्येक टीम में 11-11 खिलाड़ियों का होना आवश्यक होता है।

(2) खेल को खुले और सूखे मैदान में खेला जाना चाहिए, जिसका व्यास 130–150 मी॰ का होता है।

(3) मैदान के बीचो बीच खेलने के लिए पिच होती है जिसके दोनों छोर पर तीन विकेट लगाए जाते है, दोनों ओर के विकेटों के मध्य की दूरी 22 गज होती है।

(4) गेंद का वजन साढ़े पांच ओंस होता है।

(5) बल्ले की चौड़ाई 4।25 इंच होती है और लंबाई 38 इंच होती है।

(6) इसके दोनों ओर 3 स्टंप लगाए जाते है प्रत्येक स्टंप की चौड़ाई 1 इंच होती है।

(7) एक ओवर में 6 गेंदे ही फेकी जा सकती है लेकिन अगर गेंद बाउंस और वाइड चली जाती है तो बल्लेबाजी करने वाली टीम को 1 रन मिल जाता है और एक अतिरिक्त गेंद खेलने का मौका मिलता है।

(8) एक अंतरराष्ट्रीय मैच में दो निर्णायक मैदान में होते हैं और एक निर्णायक मैदान के बाहर होता है इनका निर्णय अंतिम निर्णय होता है।

(9) खेल खेलते समय एक अंपायर जहां से गेंदबाजों होती है उस विकेट के पास खड़ा होता है और दूसरा अंपायर वहां पर खड़ा होता है जहां से बल्लेबाजी होती हैं प्रत्येक ओवर के बाद दोनों अपना स्थान परिवर्तित करते रहते हैं

(10) कैच – यदि बल्लेबाज गेंद को बल्ले से मारता है और वह गेंद फील्डिंग करने वाले टीम के सदस्य द्वारा हवा में पकड़ ली जाती है तो उसे कैच कहते है इससे बल्लेबाज आउट माना जाता है।

(11) रन आउट – जब बल्लेबाज अपनी क्रीज़ में नहीं होता तो गेंदबाजी करने वाली टीम द्वारा अगर स्टंप पर गेंद मार दी जाती है तो बल्लेबाज रन आउट माना जाता है।

(12) टाइम आउट – किसी बल्लेबाज के आउट हो जाने पर अगर दूसरा बल्लेबाज 2 मिनट के अंदर मैदान में नहीं आता है तो टाइम आउट दे दिया जाता है।

(13) बोल्ड – यदि गेंदबाज गेंद से विकेट पर हिट करता है और विकेट गिर जाता है या फिर विकेट पर रखी बेल गिर जाती है तो बोल्ड माना जाता है।

(14) हिट विकेट – अगर बल्लेबाज द्वारा बल्लेबाजी करते समय बल्ले से या फिर उसके शरीर के किसी भी हिस्से से स्टंप या फिर बेल गिर जाती है तो उसे हिट विकेट का जाता है और बल्लेबाज आउट हो जाता है।

(15) स्टंपड – जब बल्लेबाज द्वारा कोई गेंद मिस (खाली निकाल दी जाती है) कर दी जाती है और वह क्रीज के बाहर होता है तो विकेटकीपर द्वारा गेंद को स्टंप पर मार दिया जाता है तो बल्लेबाज आउट हो जाता है।

(16) गेंद पकड़ना – एक बल्लेबाज अपने विकेट को सुरक्षित करने के लिए गेंद को हाथ से नहीं पकड़ सकता है।

(17) मेडन ओवर – जिस ओवर में बल्लेबाजी एक भी रन नहीं ले पाता उसे मेडन ओवर कहा जाता है।

क्रिकेट खेलने के लाभ –

(1) क्रिकेट खेलने से शारीरिक और मानसिक दोनों प्रकार का विकास होता है।

(2) क्रिकेट खेलने से बच्चों में अनुशासन और परस्पर सद्भाव की भावना जागृत होती है।

(3) यह खेल खेलने से शरीर हष्ट पुष्ट हो जाता है।

(4) यह खेल खेलने से बच्चों में एकाग्रता की क्षमता में विकास होता है।

(5) क्रिकेट खेलने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है जो कि बच्चों के लिए बहुत ही आवश्यक है।

क्रिकेट के प्रसिद्ध खिलाड़ी –

सुनील गावस्कर, सचिन, कपिल देव, युवराज सिंह, महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली, वीरेंद्र सहवाग, अनिल कुंबले, गौतम गंभीर, हरभजन सिंह, विजय हजारे, आशीष नेहरा, इरफान पठान, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ इत्यादि हमारे देश के प्रसिद्ध क्रिकेट खिलाड़ी है।

उपसंहार –

क्रिकेट को अगर खेल जगत की जान कहा जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी क्योंकि यह खेल विश्व भर में इतना लोकप्रिय है कि लोग इस खेल को देखने के लिए अपना काम धंधा छोड़ देते है।

यह इतना रोमांचक खेल है कि जो इसको एक बार देख लेता है वह बार-बार इस खेल को देखने आता है। क्रिकेट स्टेडियम में जाकर क्रिकेट मैच को देखना एक अलग ही आनंद प्रदान करता है क्योंकि वहां पर सभी अपनी मनपसंद टीम के लिए जोर-जोर से नारे लगाते है वहां का एक अलग ही उत्साह होता है।

हमें क्रिकेट की तरह ही अन्य खेलों को भी लोकप्रिय बनाना होगा क्योंकि खेलों से ही जीवन का असली उदय होता है।


यह भी पढ़ें –

फुटबॉल पर निबंध – Essay on Football in Hindi

हॉकी पर निबन्ध – Essay on Hockey in Hindi

मेरा प्रिय खेल कबड्डी पर निबंध – Mera Priya Khel Kabaddi in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Essay on Cricket in Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.