Slogans of freedom fighters in hindi | स्वतंत्रता सेनानियों के नारे

Indian Slogans of freedom fighters in hindi : दोस्तों हमें इस पोस्ट में उन वीर शहीदों, क्रांतिकारियों और देशभक्त नेताओं के नारे लिखे हैं जिन्होंने देश को आजाद कराने के लिए शहीद हो गए.  उनके नारे इतने प्रभावशाली थे देश के सभी युवाओं में और हर प्रकार के वर्ग में आजादी की ऐसी अलख जगा गए कि अंग्रेजों को हमारा देश छोड़कर जाना पड़ा.  आइए हम भी उन महान क्रांतिकारियों और देशभक्त नेताओं के नारों से कुछ सीखते हैं और उनको श्रद्धांजलि देते हैं.

Slogans of freedom fighters in hindi

Slogans of Freedom Fighters in Hindi

Slogan 1 : इंकलाब जिंदाबाद 

– शहीद भगतसिंह

आजदी की लड़ाई में सबसे ज्यादा लोकप्रिय होने वाला नारा “इंकलाब जिंदाबाद” था. हसरत मोहानी के लिखे इस नारे को जब शहीद ए आजम भगतसिंह ने लगाया तो ये देश के बच्चे – बच्चे की जुबान पर छा गया. यह नारा आज भी सबसे ज्यादा लोकप्रिय है.


Slogan 2 : “जय हिन्द”

– नेताजी सुभाष चंद्र बोस

आजाद हिन्द फोज के गठन के बाद सभी सिपाही अपने अपने धर्म के हिसाब से अभिवादन करते थे. नेताजी को महसूस हुआ की कोई एक अभिवादन होना चाहिए जिसे आजद हिन्द फोज के सभी सिपाही इस्तेमाल करे. नेताजी ने ये जिम्मेदारी मेजर आबिद हासन को दी. मेजर आबिद हासन ने “जय राम जी की” नारा सुना और “जय हिन्द” का नारा लिख दिया.


Slogan 3 : चलो दिल्ली”

– नेताजी सुभाष चंद्र बोस

ह नारा भी नेताजी के सहयोगी और आजाद हिन्द के मेजर आबिद हासन ने दिया .1942 में आजद हिन्द फोज ने ब्रिटिश सरकार को उखाड़ फेकने का ऐलान किया, तब यह नारा दिया गया.


Slogan 4 : “भारत छोड़ो

– महात्मा गांधीजी 

अंग्रेजो के खिलाफ जब निर्णायक लड़ाई की बरी आई तो सामजिक नेता युसूफ मेहर अली ने “भारत छोड़ो (Quit india)” का नारा लिखा. गांधीजी ने इस नारे के साथ ही आजादी की आखरी जंग छेड़ दी.


Slogan 5 : “साइमन वापस जाओ

 – युसूफ मेहर अली

जब ये तय किया गया की साइमन कमिसन के भारत आने का जब विरोध किया जाये तो फिर एक नारे की तलाश थी जिसे युसूफ मेहर अली ने “simon go back” नारे को लिख कर पूरा किया.


Slogan 6 : “तुम मुझे खून दो मै तुम्हे आजादी दूंगा

– नेताजी सुभाष चंद्र बोस

नेताजी ने 1944 में आजाद हिन्द के सिपाहियों को सम्बोदित करते हुए ये नारा दिया था.


Slogan 7 : “स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है

– लोकमान्य बालगंगाधर तिलक

यह नारा लोकमान्य बालगंगाधर तिलक ने दिया था, जब अंग्रेजो ने उन्हें 1908 में विद्रोही लेख लिखने और देशद्रोह का चार्ज लगते हुए बर्मा के मंडालय जेल भेज दिया था.


Slogan 8 : “सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

– रामप्रसाद बिस्मिल

रामप्रसाद बिस्मिल ने बिस्मिल अजीमा बादी के शब्दों के अपनी आवाज देकर इसे एक लोकप्रिय नारा बनाया.


Slogan 9 : “जय जवान जय किसान

– लोकमान्य बालगंगाधर तिलक

यह बहुत लोकप्रिय नारा है जो की 1965 के भारत पाक युद्ध के दौरान भारत के प्रधानमन्त्री श्री बहादुर शास्त्री ने दिया था.


Slogan 10 : “करो या मरो

 – महात्मा गांधीजी

यह नारा जब दिया गया जब महात्मा गांधीजी ने “भारत छोड़ो” आन्दोलन का आगाज़ किया था. इस नारे ने लोगो में आजादी की एक अलग ही अलख जगा दी थी.


Slogan 11 : “सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा

– इकबाल

यह नारा प्रसिद्ध शायर इकबाल ने लिखा था. इस नारे को तब लिखा गया जब अंग्रेजो को अत्याचार बहुत बढ़ गया था तब लोगो में हिम्मत जगाने के लिए 1905 में लिखा था. इसे अनौपचारिक रूप से भारत के राष्ट्रीय गीत का दर्जा प्राप्त है।


Slogan 12 : “आराम हराम है

जवाहर लाल नेहरु

जब देश अंग्रेजो से आजाद हुआ तब देश की माली हालत बहुत खराब थे तब देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री ने युवाओ में काम करने के प्रति नया जोश भरने के लिए यह नारा दिया था.


Slogan 13 : “वंदे मातरम्

– बंकिम चन्द्र चटर्जी

80 के दशक में जब अंग्रेजो ने सरकारी समारोहों में ‘गॉड! सेव द क्वीन’ गीत गाया जाना अनिवार्य कर दिया तब ‘बंकिमचन्द्र चटर्जी’ को बहुत ठेस पहुंची तब उन्होंने नये गीत की रचना की और उसका शीर्षक दिया – ‘वन्दे मातरम्’दिया था और बंगाल में चले स्वाधीनता-आन्दोलन के दौरान विभिन्न रैलियों में जोश भरने के लिए यह गीत गाया जाने लगा.


Slogan 14 : “पूर्ण स्वराज

– जवाहरलाल नेहरु

यह नारा जवाहरलाल नेहरु ने दिया था, 31 दिसंबर 1929 को कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन में जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में प्रस्ताव पारित कर भारत के लिए पूर्ण स्वराज की मांग की गई थी.


Slogan 15 : “हिंदी, हिन्दू, हिंदुस्तान

– भारतेन्दु हरिश्चन्द्र


Slogan 16 : “दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगे, आजाद ही रहे है, आजाद ही रहेंगे

– चन्द्रशेखर आजाद

काकोरी कांड में भी जब सभी क्रांतिकारी पकड़े गए थे, तब भी चंद्रशेखर आजाद को कोई नहीं पकड़ सका था तब चंद्रशेखर आजाद ने यह शेर बोला करते थे.


Slogan 17 : “मारो फिरंगी को

– मंगल पांडे

“मारो फिरंगी को” नारा भारत की स्वाधीनता के लिए सर्वप्रथम आवाज़ उठाने वाले क्रांतिकारी “मंगल पांडे” की जुबां से 1857 की क्रांति के समय निकला था.


Slogan 18 : “विजयी विश्व तिरंगा प्यारा

 – श्याम लाल गुप्त

“विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झण्डा ऊँचा रहे हमारा” नामक उक्त सुविख्यात झण्डा गीत को 1938 के कांग्रेस अधिवेशन में स्वीकार किया गया था। इस गीत की रचना करने वाले श्यामलाल गुप्त ‘पार्षद’ कानपुर में नरवल के रहने वाले थे।


Slogan 19 : “अब भी जिसका खून न खौला खून नहीं वो पानी है, जो ना आये देश के काम वो बेकार जवानी है

– चन्द्रशेखर आजाद

अंग्रेजो के खिलाफ जब आंदोनल हो रहे थे तब देश वाशियो में जोश भरने के लिए यह नारा दिया था.


Slogan 20 : “कर मत दो

 – सरदार वल्लभ भाई पटेल

जब भारत के गुजरात का खेडा खंड सूखे की चपेट में आ गया था तब किसानो ने ब्रिटिश सरकार से आग्रह किया कि उस वर्ष कर (टैक्स) में छूट दी जाए परन्तु ब्रिटिश सरकार ने यह आग्रह अस्वीकार कर दिया तब सरदार पटेल ने “कर मत दो” का नारा दिया तथा अंतत: ब्रिटिश सरकार को यह मांग माननी पड़ी.


Slogan 21 : “हू लिव्स इफ इण्डिया डाइज

– जवाहरलाल नेहरू

सम्बंधित पोस्ट्स 

Best Motivational Thoughts in Hindi

 

Amazon


2 Comments

अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.