मेरा परिचय निबंध – Myself Essay in Hindi

Myself Essay in Hindi : आज हम मेरा परिचय पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 और 10 के विद्यार्थियों के लिए है. अक्सर विद्यार्थियों को परीक्षाओं में स्वयं पर निबंध या परिचय देने के लिए निबंध लिखने को कहा जाता है.

स्वयं पर निबंध लिखने में कठिनाई होती है और कई बार विद्यार्थी अपना परिचय देने में हिचकते है इसलिए हमने विद्यार्थियों की सहायता के लिए यह निबंध अलग-अलग शब्द सीमा में लिखा है.

Myself Essay in Hindi

Get Some Essay on Myself Essay in Hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 and 10 Students.

Best Myself Essay in Hindi 100 Words


मेरा नाम प्रवीण कुमार है मैं गाजियाबाद शहर का रहने वाला हूं. मैं कक्षा 5 में पढ़ता हूं मेरे स्कूल का नाम गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल है.

मेरे पिताजी का नाम श्री विलास राय है और माता जी का नाम रुकमणी देवी है हमारे घर में कुल 6 सदस्य है. मेरी दिनचर्या काफी सरल है.

मैं सुबह 5:00 बजे उठकर कॉलोनी के पार्क में पिताजी के साथ घूमने चला जाता हूं. उसके बाद में स्कूल जाता हूं वहां पर मैं मन लगाकर पढ़ाई करता हूं सभी सहपाठी और शिक्षक गण मुझे बहुत पसंद करते है. मैं हर बार कक्षा में अव्वल आता हूं.

मुझे बैडमिंटन और क्रिकेट खेलना बहुत पसंद है और स्कूल में होने वाली सभी प्रतियोगिताओं में भाग लेता हूं. मैं हमेशा सत्य बोलता हूं और सदैव दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार करता हूं.

Mera Parichay Essay in Hindi 250 words


मेरा नाम प्रिया जांगिड़ है मैं राजस्थान राज्य के जयपुर शहर में रहती हूं जिसको गुलाबी नगरी भी कहा जाता है. मेरे पिताजी का नाम श्री शिवकुमार है और माता जी का नाम मीना देवी है. हमारे घर में कुल 4 सदस्य हैं जिसमें मैं मेरे पिताजी माताजी और मेरा एक छोटा भाई है.

मेरा घर आर्य कॉलोनी में स्थित है यहां पर रहने वाले सभी लोग बहुत ही अच्छे है. मैं कक्षा चार की छात्रा हूं मेरे स्कूल का नाम विवेकानंद पब्लिक स्कूल है. मैं सुबह सूर्य उदय से पहले उठ जाती हूं सभी जरूरी कार्य करने के पश्चात में मां के साथ मंदिर जाती हूं.

इसके बाद में स्कूल में पढ़ाई गए पाठ को फिर से पढ़ती हूं. मैं प्रतिदिन स्कूल में जाती हूं वहां की सभी अध्यापक – अध्यापिकाए बहुत अच्छे है, वे प्रतिदिन हमें नई शिक्षा देते है और कई बार तो रोचक और ज्ञानवर्धक कहानियां भी सुनाते है.

मेरे सहपाठी भी बहुत अच्छे है. हर बार में कक्षा में अव्वल आती हूं. मुझे चित्रकारी करना, गाना गाना, खाना बनाना, नृत्य करना बहुत पसंद है. मैं बहुत ज्यादा जिज्ञासु हूं इसलिए मुझे नई-नई चीजें सीखना बहुत पसंद है.

मैं हमेशा सच बोलती हूं और अपने सभी कार्य समय पर करती हूं. स्कूल से आने के बाद में खाना खाती हूं. कुछ समय बाद ट्यूशन टीचर आकर मुझे पढ़ाते है. इसके बाद स्कूल में दिया गया होमवर्क करती हूं.

शाम को कॉलोनी के बगीचे में मैं और मेरे दोस्त सभी मिलकर खेलते है. इसके बाद में जल्दी भोजन कर के सो जाती हूं क्योंकि जल्दी सोना और जल्दी उठना स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है.

Myself Essay in Hindi 600 Words


मेरा नाम रवि कुमार है मेरे पिताजी का नाम रमेश अग्रवाल है और माता का नाम श्रीमती दुर्गा देवी है मैं कक्षा 8 का विद्यार्थी हूं और मेरे स्कूल का नाम विद्यासागर सीनियर सेकेंडरी स्कूल है.

हम दिल्ली शहर में रहते है लेकिन हमारा फैसला गांव उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में स्थित है. हमारे घर में कुल 7 सदस्य है. मैं मेरे माता-पिता, दादा-दादी और दो छोटे भाई बहन है. मेरे दादा-दादी हमारे साथ नहीं रहते हुए हमारे पैतृक गांव में ही रहते है.

मैं प्रातः सूर्योदय से पहले करीब 5:00 बजे उठ जाता हूं फिर मैं अपने नित्य क्रियाओं से निवृत्त होकर कॉलोनी के पास बनी पार्क में घूमने के लिए चला जाता हूं. वहां पर अन्य लोग भी कई प्रकार की क्रियाएं करते रहते हैं जैसे कुछ लोग योगा और एक्सरसाइज तो कुछ युवा लोग आर्मी की तैयारी के लिए तेज दौड़ लगाते है.

पार्क में कुछ बुजुर्ग लोग भी आते है जिनको मैं रोज प्रणाम करता हूं और वे भी मुझे बहुत ही स्नेह प्रदान करते है उनसे बहुत कुछ अच्छी बातें सीखने को मिलती है.

इसके पश्चात मन कर चला जाता हूं और नहाकर स्कूल जाने के लिए तैयार हो जाता हूं मेरी माता जी मेरे लिए सुबह का नाश्ता तैयार कर देती है पिताजी और मैं साथ में नाश्ता करते हैं क्योंकि पिताजी को भी कार्यालय में जाना होता है.

कुछ समय बाद स्कूल बस मुझे लेने आती है और मैं उसने बैठकर चला जाता हूं. विद्यालय पहुंचने पर में सबसे पहले ही पहले के मंदिर जाकर मां सरस्वती को प्रणाम करता हूं फिर स्कूल की प्रार्थना होती है. मेरी कक्षा की सभी विद्यार्थी बहुत ही होनहार और अच्छे है.

सभी शिक्षक गण मुझे जानते है क्योंकि मैं हर बार कक्षा में प्रथम श्रेणी से पास होता हूं और मैं वार्षिक उत्सव, गणतंत्र दिवस, स्वतंत्रता दिवस, वाद-विवाद प्रतियोगिता, खेलकूद इत्यादि सभी प्रतियोगिताओं में भाग लेता हूं. कुछ दिनों पहले हुई निबंध प्रतियोगिता में मुझे प्रथम स्थान मिला था.

विद्यालय के सभी शिक्षक गण बहुत अच्छे है वह हमें अच्छी शिक्षा देते है और कभी कभी पढ़ाई का टेंशन कम करने के लिए हमें ज्ञानवर्धक कहानियां सुनाते है और कभी खेलने के लिए भी ले जाते है.

विद्यालय से 1:00 बजे हमारी छुट्टी हो जाती है. घर आकर में मुंह हाथ धोकर खाना खाता हूं इसके बाद थोड़ी देर में टीवी देखता हूं. शाम 4:00 बजे में फिर से पढ़ाई करने के लिए बैठ जाता हूं इस समय मैं स्कूल मैं दिया गया हूं होमवर्क करता हूं.

करीब 5:00 बजे के लगभग मैं और मेरी दोस्त पास ही के मैदान में खेलने के लिए चले जाते है और खूब मस्ती करते है.

मुझे क्रिकेट, फुटबॉल और बैडमिंटन खेलना, संगीत सुनना बहुत पसंद है साथ ही मुझे लिखने का भी बहुत शौक है मैं छोटी कविताएं और चुटकुले लिखता हूं. मुझे डांस करना भी बहुत पसंद है इसलिए जब भी स्कूल की छुट्टियां पड़ती है तो मैं डांस सीखने के लिए भी जाता हूं.


यह भी पढ़ें –

विद्यार्थी और अनुशासन पर निबंध – Vidyarthi aur Anushasan Essay in Hindi

आदर्श विद्यार्थी पर निबंध – Adarsh Vidyarthi Essay in Hindi

मेरा बचपन पर निबंध – Mera Bachpan Essay in Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Myself Essay in Hindi आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



अपना सुझाव और कमेन्ट यहाँ लिखे

You have to agree to the comment policy.